चतुर्थ श्रेणी के कर्मी सरकारी स्कूलों में बच्चों को पढ़ा रहे हैं गणित और विज्ञान

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana, Ambala

हरियाणा में ग्रुप डी की भर्ती काफी चर्चा में रही थी, जिसमें पढ़े लिखे युवा चतुर्थ श्रेणी में भर्ती होकर हरियाणा सरकार को अपनी सेवाएं दे रहे हैं। अब वही ग्रुप डी के कर्मचारी जहां शिक्षकों की कमी है वहां बच्चों को गणित और विज्ञान पढ़ा रहे हैं।

हरियाणा के अंबाला जिले के 2 सरकारी स्कूलों में जहां शिक्षकों की कमी है वहां चपरासी बच्चों को गणित और विज्ञान पढ़ा रहे हैं। दो सरकारी स्कूलों में  चपरासी के पदों पर तैनात दो युवा शिक्षकों की कमी को पूरा करने के लिए अपना योगदान दे रहे हैं। ये दोनों चपरासी स्कूल में शिक्षक व चतुर्थ श्रेणी के कर्मी की भूमिका निभा रहे हैं।

अंबाला के माजरी गांव व मर्दों साहिब गांव के सरकारी स्कूलों में युवा चपरासी के साथ साथ बच्चों को पढ़ाने का काम कर रहे हैं। कमल सिंह की भर्ती ग्रुप डी के अंतर्गत हुई है और वे माजरी गांव के सरकारी स्कूल में चपरासी के तौर पर भर्ती हुए हैं। कमल सिंह MSc. फिजिक्स हैं और माजरी गांव के स्कूल में टीचर की कमी की वजह से बच्चों को पढ़ाने का काम कर रहे हैं। कमल चपरासी का काम और अध्यापक का काम दोनों जिम्मेदारियों को बखूबी निभा रहे हैं।
ठीक ऐसा ही हाल मर्दों साहिब गांव के सरकारी स्कूल का भी है। यहां पिछले दिनों साइंस टीचर का निधन हो गया तो महेंद्र पाल चपरासी होने के बावजूद बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए उन्हें साइंस पढ़ा रहे हैं। महेंद्र पाल बी.टेक. हैं. वे भी ग्रुप डी भर्ती के तहत इस सरकारी स्कूल में सेवाएं दे रहे हैं।

माजरी गांव व मर्दों साहिब गांव के सरकारी स्कूल को संभाल रही प्रिंसिपल सरबजीत कौर का कहना है कि स्कूल में शिक्षकों की कमी होने के चलते ये लोग दोनों जिम्मेदारियां निभा रहे हैं। इनके पास क्वालिफिकेशन है तो हम उसका उपयोग कर इनसे दोनों काम करवा रहे हैं। उन्होंने कहा कि स्कूल के विद्यार्थी भी इन्हें पूरा सम्मान देते हैं। अंबाला के सरकारी स्कूलों में चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी बच्चों को पढ़ाते हुए दोहरी जिम्मेदारी निभा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *