स्वच्छता मिशन में हरियाणा को झटका, गुरुग्राम विश्व का सबसे प्रदूषित शहर घोषित

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Manu Mehta, Yuva Haryana

Gurugram, 6 March, 2019

दुनिया के सबसे ज़्यादा प्रदूषित 10 शहरों में से सात भारत में हैं, और पांच तो राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में ही मौजूद हैं। हाल ही में किए गए एक अध्ययन के मुताबिक देश की राजधानी दिल्ली से सटा गुरुग्राम, यानी गुड़गांव दुनिया का सबसे ज़्यादा प्रदूषित शहर है। ब्लूमबर्ग  के मुताबिक, आईक्यूएयर एयरविज़ुअल एंड ग्रीनपीस द्वारा जारी आंकड़ों में बताया गया है कि वर्ष 2018 के दौरान प्रदूषण स्तर के मामले में गुरुग्राम दुनिया के सभी शहरों से आगे रहा है, हालांकि पिछले साल की तुलना में उसका स्कोर कुछ बेहतर हुआ है। शीर्ष पांच शहरों में चार शहर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का हिस्सा हैं, और एक शहर पाकिस्तान का है।

रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिणी एशिया में यह स्थिति और विकराल होती जा रही है। पिछले साल टॉप-10 में से 18 सबसे प्रदूषित शहर भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश से थे। इस लिस्ट में दिल्ली 11वें नंबर पर है। वहीं, टॉप-5 में पाकिस्तान का फैसलाबाद शहर भी शामिल है।

एक समय सबसे प्रदूषित शहरों में गिना जाने वाला चीन के बीजिंग ने काफी सुधार दिखाया है। यह इस सूची में 122वें नंबर पर है। इस लिस्ट में टॉप-20 में चीन के केवल दो शहर ही हैं। इनके नाम होतान और काशगर हैं। दोनों ही नॉर्थ वेस्ट चीन में हैं।

विश्व स्तर पर अपनी पहचान बना चूके शहर गुरुग्राम की आबोहवा इतनी खराब है कि ब्लूमबर्ग ने  गुरूग्राम को अब विश्व के सबसे प्रदूषित शहरों की श्रेणी दे दी है, जबकि फरीदाबाद को चौथे स्थान पर रखा गया है। यह शहर निवासियों के लिए एक चिंता का विषय है।

प्रदूषण का आकलन पीएम 2.5 कणों के आधार पर किया गया है। पीएम 2.5 कण अत्यंत महीने होतो है और फेफड़ो को नुकसान पहुंचाते है।

बड़ी ईमारतों व विश्व की सभी नामी कम्पनियों के कारपोरेट हब के रूप में पहचाने जाने वाले हरियाणा के शहर गुरुग्राम की हवा इस कदर खराब है कि एक सर्वे में इसे विश्व के सबसे प्रदूषित 62 शहरों में सबसे ऊपर रखा गया है।

वहीं राजधानी दिल्ली को इस सूची में 11वां स्थान मिला है। इस सर्वे की रिपोर्ट को अगर सही माने तो एनसीआर क्षेत्र का प्रदूषण वाकई चिंता का विषय हो सकता है। सर्वे में माना गया है कि मौजूद पीएम 2.5 का स्तर लोगों के स्वास्थ्य के लिए खतरे का कारण हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *