गुरुबख्श सिंह के अंतिम संस्कार पर लगे खालिस्तान जिंदाबाद के नारे, कफन की जगह खालिस्तान लिखा कपड़ा ओढ़ाया

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana

Kurukshetra (26 March 2018)

गांव ठसकाली में आखिकार गुरुबख्श सिंह का 6 दिन अंतिम संस्कार कर दिया गया। बता दें कि अंतिम यात्रा में सिखों ने खालिस्तान के झंडे भी फहराए और खालिस्तान जिंदाबाद के नारे भी लगाए। वहीं शव पर कफन भी खालिस्तान का झंडा डाला गया। इसको लेकर सरकार के नेता भी मौन धारण करके रखे हुए।
इस सारे मामले पर नजर रखने के लिए ए.डी.जी.पी. आर.सी. मिश्रा और एस.पी. कुरुक्षेत्र ने गांव ठोल के सरकारी स्कूल में डेरा डाले रखा। वहीं इससे पहले रविवार को गुरुबख्श सिंह के अंतिम संस्कार को लेकर साढ़े 4 बजे तक हाई वोल्टेज ड्रामा चलता रहा।

शनिवार को बनी रजामंदी के तहत सिख नेताओं ने रविवार सुबह  10 बजे संस्कार करने की बात कह रहे थे लेकिन रविवार को गुरुबख्श सिंह के अंतिम संस्कार को लेकर जैसे ही परिजन और रिश्तेदार एकत्र हुए तो सिख नेताओं ने दोनों एस.एच.ओ. के निलंबित की कॉपी देने की मांग कर अंतिम संस्कार रोक दिया।

जिस पर शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सदस्य अपार सिंह, हरियाणा गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सदस्य हरमिंद्र सिंह ने गांव ठोल के सरकारी स्कूल में मौजूद ए.डी.जी.पी. और एस.पी. कुरुक्षेत्र से बातचीत की। जहां पर सहमति बनी की दोनों थाना प्रभारियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है। यह बात सिख नेताओं ने गांव ठसकाली में आकर संगत को बात बताई तो उन्होंने बात मानने से इंकार कर दिया और दोनों प्रभारियों को सस्पैंड करने की मांग कर प्रशासन को 1 घंटे का समय दिया।

उसके बाद शव को पंजाब में ले जाने की बात कहने लगे। लेकिन बाद में  विधायक द्वारा समझाने पर सिख नेताओं ने अंतिम संस्कार की तैयारियां शुरू कर दी।करीब साढ़े 4 बजे शव पर खालिस्तान के झंडे का कफन डालकर खालिस्तान जिंदाबाद और बंदी सिखों की रिहाई की मांग के नारे लगाते हुए सैंकड़ों सिख श्मशान घाट में ले गए। शव को गुरबख्श सिंह के बेटे जूझार सिंह ने मुखाग्रि दी। मौके पर संत बलजीत सिंह दादूवाल ने प्रशासन द्वारा दी गई मैजिस्ट्रेट जांच की कॉपी सौंप दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *