हरियाणा की कंपनी हटाएगी शहर से गोबर, बनाएगी मीथेन गैस

खेत-खलिहान चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Haryana , 05-04-2018

अब जल्द ही शहरवासियों को डेयरियों से निकले अपशिष्ट यानि गोबर की दुर्गध से जल्द ही निजात मिलने वाला है। जी हां, नगर निगम ने हरियाणा की इंटरनेशनल कोल कंपनी को गोबर हटाने की मंजूरी दी है। इसके बदले नगर निगम को कुछ भी भुगतान नहीं करना होगा, बल्कि डेयरी संचालक कंपनी को गोबर के उत्पादन के मुताबिक पेमेंट करेंगे। एक डेयरी से न्यूनतम 1 हजार रुपए चार्ज किए जाने की संभावना नगर आयुक्त ने जताई है।

कंपनी डेयरी से गोबर लेकर मीथेन गैस का उत्पादन करेगी और उसका उपयोग अन्य कंपनियों को बेचकर मुनाफा कमाएगी। बता दें कि शहर में डेयरी का शिफ्ट न होना सबसे बड़ी समस्या  है।

नगर आयुक्त ईश शक्ति सिंह ने कहा कि नगर क्षेत्र में करीब दो हजार से अधिक डेयरियां संचालित हैं। कुछ वार्डो में सौ के करीब डेयरियां अवैध रूप से चल रही हैं। डेयरियों से निकला गोबर नालियों में बहाया जा रहा है, जिससे नाला और नालियां चोक हो रही हैं। कहा कि, कंपनी के बरेली में कार्य करने की शुरुआत के दिन से ही नालियों में गोबर बहाए जाने का सिलसिला थमेगा। जिससे दुर्गध समेत नाला नालियां चोक होने की समस्या से छुटकारा मिलेगा।

अगर कोई डेयरी संचालक इस योजना में बाधा उत्पन्न करेगा, तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि पिछले दिनों हुई कार्यकारिणी की विशेष बैठक में डेयरी संचालकों से सलाना दो हजार रुपए रजिस्ट्रेशन शुल्क वसूलने पर मुहर लगी है।

हरियाणा की कंपनी शहर की डेयरियों से कूड़ा कलेक्ट करके मॉडर्न टेक्निक से मीथेन गैस बनाएगी। गोबर खत्म होने से  गंदगी की समस्या से राहत मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *