किसानी के क्षेत्र में अनूठी पहल, हरियाणा में मोती की खेती भी शुरू

Breaking खेत-खलिहान बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana

Rohtak, (26 March 2018)

गुरुग्राम के जमालपुर गांव के सुरेश ने हरियाणा में सिप से मोती की खेती की अनूठी पहल शुरू की है। इसे किसानी की श्रृंखला का हुनर ही माने कि सीप से मोती पैदा कर भी मोटा मुनाफा कमाया जा सकता है।

हरियाणा के रोहतक में आयोजित किए जा रहे तृतीय कृषि शिखर नेतृत्व सम्मेलन में सीप से मोती पैदा करने की खेती का अंदाज नज़र आया। हुनर के इस काम में जुटे सुरेश कुमार ने बताया कि इसे आप खुद भी सीख सकते हैं।

सुरेश ने करीब दो साल पहले ही सीप से मोती की पैदावार लेना शुरू किया और एक साल में विशुद्ध मुनाफा करीब चार लाख रुपए सलाना मिलने लगा है। मोतियों की कीमत भी उसकी गुणवता के हिसाब से तय होती है। एक-एक मोती की कीमत बाजार में दो सौ रुपए या इससे अधिक मिलती है। एक सीप में दो मोती होते हैं।

सुरेश ने बताया कि उन्होंने भुवनेश्र्वर में स्थित सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ फ्रेश वाटर एक्वाकल्चर से प्रशिक्षण के उपरांत यह काम शुरू किया। खास बात यह है कि इस काम के लिए कोई लंबे चौड़े रकबे की भी जरूरत नहीं है।

करीब एक हजार सीप के लिए दस बाईस के तालाब में इस काम को शुरू किया जा सकता है। आठ से दस रुपए की सीप खरीदी जाती है और तालाब में मोती के लिए सर्जरी की जाती है। फिर होती है दस से बारह महीने का इंतजार और एक खरा और सुच्चा मोती सीप के अंदर होता है।

सुरेश कहते हैं कि असली मोतियों की भारी मांग है। इस से कम समय में अधिक लाभ की पूरी संभावना है। चाहे तो महिलाएं भी अतिरिक्त समय निकाल कर इस काम को कर सकती हैं। पार्ट टाइम में ही थोड़ी जगह में मोती पैदावार संभव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *