डेरा के अंधभक्त ने सुनारिया जेल का टैग लगा देखकर खरीद लिया सारा सामान

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana,

Faridabad, 09 Feb,2019

डेरामुखी राम रहीम के अनुयायियों की अंधभक्ति का एक और मामला सामने आया है। इस बार एक अनुयायी ने बिक्री के लिए रखे सामान पर सुनारिया जेल का टैग देखकर सारा सामान खरीद लिया।

दरअसल फरीदाबाद में सूरजकुंड मेले में लगी स्टॉल पर एक ग्राहक ने बिना किसी जरूरत के ही करीब 60 हजार रुपये का सामान खरीद लिया। इसमें से कुछ सामान रोहतक की सुनारिया जेल में कैदियों ने तैयार किया था।

एक बार तो सेल्समैन हैरान हो गया कि एक ही ग्राहक ने सारा सामान क्यों खरीद लिया। लेकिन बाद में पता चला कि ग्राहक डेरा सच्चा सौदा सिरसा का अनुयायी है।

गौरतलब है कि डेरामुखी राम रहीम दुष्कर्म और हत्या के मामले में सुनारिया जेल में सजा काट रहा है। अनुयायी द्वारा जेल में बने सामान को खरीदने के पीछे उसकी डेरामुखी के प्रति अंधभक्ति ही बताया जा रहा है।

फरीदाबाद में एक फरवरी से अंतरराष्ट्रीय क्राफ्ट सूरजकुंड मेला लगा हुआ है। मेले में हरियाणा की जेलों में कैदियों द्वारा हाथ से बनाए गए सामान की फरीदाबाद जेल प्रशासन द्वारा स्टॉल लगाई गई है।

शुक्रवार को मेले में फरीदाबाद के एनआइटी निवासी सोनू परिवार के साथ घूमने पहुंचा। वहां उसने हरियाणा की जेलों में कैदियों द्वारा निर्मित सामान स्टाल पर बिक्री के लिए देखा। अचानक उसकी नजर कुछ सामान पर पड़ी, जिस पर सुनारिया जेल रोहतक का टैग लगा हुआ था। ये देख  सोनू ने स्टॉल पर रखा सारा ही सामान खरीद लिया।

सोनू ने बताया कि यह सामान उसने इसलिए खरीदा है कि डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख रामरहीम सुनारिया जेल में ही बंद है और उसकी डेरा से आस्था जुड़ी हुई है।

बता दें डेरा के प्रति इस तरह की अंधभक्ति का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी सुनारिया जेल के साइन बोर्ड को देखकर डेरामुखी के समर्थकों ने पूजा करनी शुरू कर दी थी। समर्थकों के जमावड़े को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने हाईवे पर लगे दिशा-सूचक बोर्ड को ही उखाड़कर फेंकना पड़ा।

रामरहीम के जन्मदिन पर भी पिछले साल समर्थकों ने हजारों की संख्या में ग्रीटींग कार्ड स्पीड पोस्ट व कोरियर से भेज दिए थे, जिसको लेकर डाक विभाग और जेल प्रशासन की मुश्किलें बढ़ गई थी। बोरे भरकर ग्रीटींग जेल में भेजे गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *