हरियाणा के छात्रों के लिए खुशखबरी, अब सीबीएसई के पैटर्न पर होगा परीक्षा का मुल्यांकन

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana,

Chandigarh, 16 Jan,2019

हरियाणा शिक्षा विभाग की ओर से परीक्षा से पहले स्कूली छात्रों को एक खुशखबरी दी गई है। सरकार ने इस बार से सीबीएसई के पैटर्न पर परीक्षा के मुल्यांकन करने का फैसला लिया है। छात्रों को अब प्रश्न का जितना भी सही उत्तर लिखा है, उसके अंक मिल सकेंगे।

शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास ने बताया कि प्रदेश में अब स्कूली परीक्षाओं का मूल्यांकन सीबीएसई के पैटर्न पर करने जाएगा, ताकि परीक्षार्थी ने प्रश्न का जितना भी सही उत्तर लिखा हो उसके अंक दिए जा सकें।

अब ऐसे मिलेंगे अंक…

हिन्दी विषय में– जैसे प्रश्न में किसी कविता के लेखक का नाम पुछा गया है, जिसका उत्तर हरिवंश राय बच्चन है। ऐसे में परीक्षार्थी उत्तर में केवल बच्चन लिख देता है तो भी अंक मिलेंगे। अभी पूरे अंक काट लिए जाते थे।

गणित विषय में– यदि परीक्षार्थी उत्तर में पूरा फार्मूला लिखता है और अंत में जोड़ में गलती कर देता है तो अंक नहीं कटेंगे।

अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास ने कार्यालय में मीडिया से बातचीत करते हुए अध्यापकों एवं अभिभावकों से अनुरोध किया है कि वे स्कूली परीक्षाओं में नकल रोकने में अपना योगदान दें तथा वे विद्यार्थियों को भी नकल न करने के लिए जागरुक करें।

उन्होंने विद्यार्थियों से परीक्षाओं के लिए टाइम-टेबल बनाकर शारीरिक एवं मानसिक क्षमता के अनुरूप ध्यान केंद्रित करके तनावमुक्त होकर तैयारी करने की सलाह दी। उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग द्वारा अध्यापकों को भी निर्देश दिए गए हैं कि वे पढ़ाई में कमजोर विद्यार्थियों के साथ तालमेल बनाकर योजनाबद्घ तरीके से उनकी तैयारी करवाएं ताकि उनमें परीक्षा का भय व्याप्त न रहे।

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी की वेबसाइट पर बोर्ड परीक्षाओं के पिछली तीन वर्ष की परीक्षाओं के प्रश्न-पत्र अपलोड किए गए हैं ताकि विद्यार्थी उनको हल करके परीक्षा के पैटर्न को जान सकें और बेहतर तैयारी कर सकें।

शिक्षा विभाग ने बोर्ड परीक्षाओं में जिन स्कूलों का जीरो से लेकर 10 प्रतिशत तक परीक्षा परिणाम आया है उन स्कूलों के साथ बैठक करके आगामी परीक्षाओं में परिणाम को बेहतर बनाने के दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *