कौशल विकास में रोल मॉडल बनकर उभरा हरियाणा, धमेंद्र प्रधान ने की जमकर सराहना

Breaking चर्चा में देश बड़ी ख़बरें राजनीति रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 27 April, 2018

कौशल विकास एवं उद्यमिता के क्षेत्र में हरियाणा ने नया मुकाम हासिल किया है। पढ़ाई के तुरंत बाद अप्रेंटिस के मामले में हरियाणा, देश के सामने रोल-मॉडल स्टेट बनकर उभरा है। आने वाले दिनों में यहां की अप्रेंटिसशिप नीति का अनुसरण देश के दूसरे राज्य भी करते नजऱ आएंगे। खुद केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने राज्य की इस नीति के लिए शाबासी दी है।

शुक्रवार को नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी में केंद्रीय मंत्री ने हरियाणा के उद्योग एवं आईटीआई मंत्री विपुल गोयल की पीठ थपथपाते हुए कहा कि इस मामले में हरियाणा ‘मॉडल-स्टेट’ बना है और पूरे देश के सामने एक उदाहरण पेश किया है। धर्मेंद्र प्रधान ने राज्य सरकार द्वारा उद्यमियों के साथ मिलकर युवाओं की करवाई जा रही अप्रेंटिसशिप कार्यक्रम की जमकर सराहना की।

इस मौके पर राज्य के औद्योगिक प्रशिक्षण एवं कौशल विकास मंत्री विपुल गोयल ने कहा कि राज्य में राष्ट्रीय अप्रेंटिसशिप प्रोत्साहन योजना के लागू होने से अभी तक लगभग 39 हजार अप्रेंटिस लगाए जा चुके हैं। लगभग 9900 निजी एवं सरकारी प्रतिष्ठान पंजीकृत हो चुके हैं। राज्य सरकार द्वारा अग्रणी निर्णय लेते हुए राज्य के सभी विभागों, बोर्ड, कारपोरेशन आदि में भी अप्रेंटिस लगाने का कार्य आरंभ किया है।

इस निर्णय के तहत सितम्बर-2019 तक 25000 अप्रेंटिस लगाए जाने का लक्ष्य है। इस पर कार्य करते हुए विभिन्न विभागों के लगभग 3500 कार्यालय पंजीकृत हो चुके हैं। यही नहीं, लगभग 22500 सीटें अप्रेंटिसशिप के लिए सृजित हो चुकी हैं, जिनके प्रति लगभग 14000 अप्रेंटिस नियुक्त भी हो चुके हैं।

सरकारी क्षेत्र में अप्रेंटिस लगाने के साथ-साथ निजी क्षेत्र में भी अधिक से अधिक अप्रेंटिस को लगाए जाने के लिए सरकार गंभीरता से प्रयासरत है। गोयल ने कहा कि योजना के प्रथम वर्ष से ही हरियाणा सरकार द्वारा तेजी से कार्य आरंभ कर दिया गया तथा प्रति लाख जनसंख्या आधार पर पूरे देश में हरियाणा राज्य में अधिकतम अप्रैंटिस लगाए गए हैं।

2017 में मिला था ‘चैम्पियन ऑफ चेंज’ अवार्ड

इस मामले में हरियाणा पहले भी केंद्र से अवार्ड हासिल कर चुका है। नंवबर-2017 में राज्य को ‘चैंपियन ऑफ चेंज’ का अवार्ड दिया गया था। निजी प्रतिष्ठानों में सितम्बर-2019 तक 20000 अप्रेंटिस लगाने का लक्ष्य सरकार ने रखा है।

कंपनियों के साथ एमओयू

अंतरराष्ट्रीय स्तर के कौशल प्रशिक्षण की सुविधाएं सृजित करने के लिए पलवल में हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय स्थापित किया गया है। विवि ने प्रतिष्ठित कंपनियों के साथ एमओयू करते हुए 10 पाठ्यक्रम आरंभ किए हैं। इनमें थ्योरी विश्वविद्यालय में पढ़ाई जाएगी तथा प्रेक्टिकल कंपनियों में होगी। ऐसे पाठ्यक्रम आरंभ करने वाला यह विवि अपने तरह का देश में प्रथम कौशल विवि है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *