खेल नीति को लेकर फिर से हरियाणा सरकार ने किया बदलाव, पढ़िए-

Breaking खेल चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Chandigarh, 1 May, 2019

हरियाणा में खेल नीति को लेकर प्रदेश सरकार ने फिर से बदलाव किया है। सरकारी महकमों और बोर्ड निगमों में खिलाड़ियों के आरक्षित पदों को भरने के लिए यह फैसला लिया गया है। होरिजेंटल आरक्षण के तहत खिलाड़ियों के खाली पड़े पदों पर अब कोर्ट को दरकिनार कर दूसरी जातियों के खिलाड़ियों को भी नौकरी दी जाएगी। इससे बैकलॉग पूरा किया जा सकेगा।

इस संबंध में मुख्य सचिव कार्यालय की ओर से सभी प्रशासनिक सचिव, विभाग अध्यक्ष, हाईकोर्ट, यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार, मंडलायुक्त, उपायुक्त और एडसीएम को लिखित आदेश जारी कर दिए गए हैं।

इसके साथ ही प्रदेश में चतुर्थ श्रेणी पदों पर खिलाड़ियों को दस फीसद तक होरिजेंटल आरक्षण का प्रावधान है। इसमें पांच फीसद तक सामान्य वर्ग, दो फीसद तक अनुसूचित जाति और तीन फीसद तक पीछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित हैं।

इसके साथ ही ग्रुप ए, बी और सी की भर्तियों में राष्ट्रीय स्तरीय खिलाड़ियों को तीन फीसद होरिजेंटल आरक्षण दिया जाता है। जिनमें अनुसूचित जाति, पिछड़ा वर्ग और सामान्य जाति के खिलाड़ियों के लिए 1-1 फीसद आरक्षण शामिल हैं। खिलाड़ियों को कोटे के बावजूद आरक्षित श्रेणी में बड़ी संख्या में पद खाली पड़े हैं।

वहीं, मुख्य सचिवालय की ओर से निर्देश दिए गए हैं कि इन पदों पर आवेदक नहीं होने की स्थिति में दूसरे वर्ग के खिलाड़ियों को भर्ती कर लिया जाए। कोर्ट का कहना है कि आवेदन करने वाले खिलाड़ियों के लिए हरियाणा की ओर से राष्ट्रीय स्तर पर खेलना अनिवार्य है। इन सभी श्रेणा की नौकरियों में खिलाड़ी की योग्यता अलग-अलग रूप से रखी गई है।

इसके साथ अगर कोई आवेदक दिव्यांग और खिलाड़ी दोनों कोटे में जगह बनाने में कामयाब रहता है, तो उसे दिव्यांग कोटे में ही एडजस्ट किया जायेगा।

होरिजेंटल आरक्षण क्या होता है ?

होरिजेंटल आरक्षण दूसरी श्रेणी के कोटे को छेड़छाड़ किए बगैर अलग से आरक्षण देना होता है। अगर किसी विभाग में 100 सीटों के लिए आवेदन मांगे गए हैं, तो खिलाड़ी कोटे की सीटें अलग से निकाल दी जाएंगी। या कह सकते हैं कि किसी पद पर  इस श्रेणी के तहत जितने लोग आवेदन करेंगे, उनकी योग्यता के मुताबिक सूची बनाई जाएगी। इसमें शीर्ष उम्मीदवारों को छांट लिया जाएगा और ये उम्मीदवार जिस कैटेगरी के होंगे, उस आरक्षण श्रेणी की सूची में सबसे नीचे की सीटों पर इन्हें एडजस्ट कर दिया जाएगा।

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *