किसानों को लेकर बड़ा कदम उठा रही है सरकार, खेतों के रास्ते 5 साल में होंगे पक्के

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana
Chandigarh, 08 Dec, 2018

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि अगले 5 वर्षों में प्रदेश के हर खेत तक पक्के रास्ते बनाए जाएंगे, ताकि किसानों को अपनी फसल की पैदावार ढोने व अन्य कृषि कार्यों के लिए आवागमन में आसानी हो।

मुख्यमंत्री आज सीएम हाऊस में प्रदेशभर से आए मार्केट कमेटी के चेयरमैन व वाइस चेयरमैनों के साथ सीधा संवाद कर रहे थे। इस अवसर पर कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओम प्रकाश धनखड़, खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री कर्ण देव कंबोज, हरियाणा स्टेट एग्रीकल्चर मार्केटिंग बोर्ड की चेयरमैन कृष्णा गहलावत, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव नवराज संधू , मुख्यमंत्री के ओएसडी भूपेश्वरदयाल भी उपस्थित थी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में हरियाणा में मंडी सिस्टम पूरे देश में बेहतर है। उन्होंने मार्केट कमेटी के चेयरमैन व वाइस चेयरमैनों से आह्वान किया कि वे किसानों के सामने आने वाली परेशानियों को दूर करने में सहयोग करने के साथ-साथ किसानों को जागरूक भी करें, ताकि उनको फसलों का लाभकारी मूल्य मिल सके। उन्होंने कहा कि पिछले चार वर्षों में प्रदेश में विकास करने के अलावा व्यवस्था परिवर्तन भी किया है।

मार्केट कमेटी के चेयरमैन व वाइस चेयरमैनों की जिम्मेदारी बनती है कि वे किसानों को उनके उत्पाद की सही मार्केटिंग करने में मदद करें। किसानों के अथक परिश्रम की बदौलत ही हरियाणा राज्य कृषि के क्षेत्र में अग्रणी है। हरियाणा का मेहनतकश किसान जहां देश के लोगों का पेट भरने में अपना अहम योगदान देता है, वहीं उसका अन्न के निर्यात में भी अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि किसानों को कृषि के साथ खुंबी उत्पादन, मधुमक्खी पालन, मछली पालन जैसे व्यवसाय भी करने चाहिएं ताकि उनकी आय में बढ़ोतरी हो सके।

हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा कि मार्केट कमेटी के चेयरमैन व वाइस चेयरमैनों के पहचान-पत्र बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि आज हरियाणा की मंडियों में सबसे अच्छा खरीद सिस्टम है जो कि प्रदेश के लिए गौरव की बात है, अब रूकना नहीं है व अधिक बेहतरी के लिए निरंतर आगे बढ़ते रहना है।

धनखड़ ने सभी चेयरमैन व वाइस चेयरमैनों से जिला-वाइज उनकी मंडियों की समस्याओं की जानकारी ली और सुधार के लिए सुझाव भी आमंत्रित किए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *