हरियाणा की 10 लोकसभा सीटों पर सबसे दिलचस्प मुकाबला किसके बीच ? पढ़िए-

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Chandigarh, 12 May, 2019

हरियाणा में 12 मई का इंतजार हर किसी को था, चाहे वो उम्मीदवार हो या मतदाता और आज वो दिन आ गया है। हरियाणा में राजनीति काफी गर्म है और सबकी नजर इसी पर होगी कि आखिर इस बार किस पार्टी की जीत होगी। कई ऐसे उम्मीदवार खड़े हैं, जिनके बीच कड़ी टक्कर मानी जा रही है।

सोनीपत

सबसे दिलचस्प मुकाबला सोनीपत में देखने को मिल रहा है क्योंकि कांग्रेस से पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा के सामने नवगठित जननायक जनता पार्टी के युवा नेता दिग्विजय चौटाला को मैदान में उतारा गया है। वहीं भाजपा से रमेश कौशिक हैं और हुड्डा व कौशिक को युवा नेता दिग्विजय कड़ी टक्कर दे रहे हैं। यह मुकाबला त्रिकोणीय हो गया है।

हिसार

हिसार में कड़ी टक्कर है, यहां पर हरियाणा के तीन बड़े राजनीतिक घरानों के बीच टक्कर है। जेजेपी से ओमप्रकाश चौटाला के बेटे दुष्यंत चौटाला, कांग्रेस से भजनलाल के पोते भव्य बिश्नोई और भाजपा से चौ. बीरेंद्र सिंह के बेटे बृजेंद्र को चुनावी मौदान में उताया गया है। अब देखना होगा कि हिसार में कौन जीत का परचम लहराता है।

रोहतक

रोहतक सीट इसलिए काफी हॉट भी मानी गई है क्योंकि यहां पर पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बेटे और तीन बार सांसद रहे दीपेंद्र हुड्डा को चुनावी मैदान में उतारा गया है। जिनकी सीधे टक्कर भाजपा के उम्मीदवार अरविंद शर्मा से होगी। कभी उन्हीं की पार्टी के रहे अरविंद शर्मा के समाने उन्हें लड़ना पड़ रहा है। वहीं सोनीपत से हुड्डा को टिकट मिलने पर दीपेंद्र की ताकत कुछ कम हुई है, तभी उन्होंने गोहाना रैली में कह डाला कि भले ही हुड्डा साहब को ज्यादा वोट से जीता देना, लेकिन मुझे भी नजदीक लगा देना, नहीं तो बेईजती हो जाएगी।

गुरुग्राम

गुरुग्राम में कांग्रेस उम्मीदवार कैप्टन अजय यादव और भाजपा से राव इंद्रजीत के बीच मुकाबला होगा। खास बात तो यह है कि दोनों ही काफी लंबे समय से कांग्रेस में रहे हैं, लेकिन फिर भी एक दूसरे के शुभचिंतक नहीं रहे। यह पहला मौका है जब ये दोनों नेता आमने-सामने खड़े होंगे। इससे पहले कैप्टन अजय यादव के पिता अभय यादव राव इंद्रजीत के पिता पूर्व सीएम राव बीरेंद्र को चुनाव में हरा चुके हैं। अजय यादव भी राव इंद्रजीत के छोटे भाई को एक बार विधानसभा चुनाव में हार दे चुके हैं।

भिवानी

भिवानी में भाजपा के उम्मीदवार धर्मबीर सिंह और कांग्रेस उम्मीदवार श्रुति चौधरी के बीच टक्कर है। लेकिन जब जेजेपी ने स्वाति यादव को मैदान में उतारा, तो मुकाबला कड़ा हो गया। धर्मबीर और बंसीलाल परिवार का आमना-सामना 1989 से होता आ रहा है। पिछले चुनाव में धर्मबीर ने कांग्रेस उम्मीदवार और बंसीलाल की पोती श्रुति चौधरी को हराया था। इस बार फिर से दोनों के बीच टक्कर है।

फरीदाबाद

फरीदाबाद लोकसभा सीट पर भाजपा ने मौजूदा सांसद कृष्णपाल गुज्जर को ही रखा है, उनके सामने मुकाबला कांग्रेस के अवतार सिंह भड़ाना से है। 2014 में कृष्णपाल यहां से 3 लाख से ज्यादा वोट से जीते थे। वहीं कांग्रेस ने यहां से पहले ललित नागर को मैदान में उतारा गया था, फिर सूची बदलते हुए अवतार भड़ाना को टिकट दे दिया। जिससे ललित नागर नाराज हो गए थे। अवतार भड़ाना ने चुनाव आते-आते कांग्रेस के करण दलाल और ललित नागर को मना लिया और एकजुटता से चुनाव मैदान में उतरे हुए हैं। कृष्णपाल गुज्जर से उनकी टक्कर मानी जा रही है। भड़ाना इससे पहले भाजपा के यूपी से विधायक थे, काफी दिनों बाद दोबारा फरीदाबाद में अब चुनाव के समय ही सक्रिय हुए।

कुरुक्षेत्र

कुरुक्षेत्र में भी काफी कड़ा मुकाबला चार उम्मीदवारों के देखने को मिलेगा। यहां भाजपा के नायब सिंह सैनी, कांग्रेस के निर्मल सिंह, इनेलो के अर्जुन चौटाला और जजपा के जयभगवान शर्मा डीडी मैदान में हैं। चारों उम्मीदवार के बीच कड़ी टक्कर होगी। नायब सैनी खुद हरियाणा सरकार में मंत्री हैं, उन्होंने भाजपा और मोदी नाम पर वोट मांगे हैं। इनेलो ने अर्जुन की लॉन्चिंग यहां से की है, इसलिए लोगों की आंखे टिकी हुई हैं। ऐसे में पूरी इनेलो इस सीट पर प्रचार करने में जुटी रही। वे इनेलो के 10 उम्मीदवारों में से दूसरे ऐसे उम्मीदवार है, जिन्हें हरियाणा की जनता नाम से जानती है।

अंबाला

अम्बाला लोकसभा में भाजपा सांसद रत्नलाल कटारिया और कुमारी सैलजा के बीच टक्कर है। 2014 में लगभग साढ़े 3 लाख वोट से जीतकर लोकसभा पहुंचे भाजपा सांसद रत्नलाल कटारिया पर यहां निष्क्रियता के आरोप लगते रहे हैं। लेकिन धुर विरोधी स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के प्रचार करने से उन्हें यहां लाभ मिला है। वहीं कुमारी सैलजा की बात करें तो वे भी दो बार अम्बाला सीट से सांसद रही हैं। दोनों बार रत्नलाल कटारिया को ही हराया था। ये उनका सबसे बड़ा प्लस प्वाइंट है। लेकिन इस लोकसभा से उनकी पार्टी का कोई भी विधायक नहीं है। वहीं अम्बाला से उनकी पार्टी के मजबूत नेता निर्मल सिंह को कांग्रेस ने कुरुक्षेत्र लोकसभा से चुनाव में उतार दिया है। उन्होंने पार्टी के नाम पर वोट मांगे हैं।

करनाल

करनाल लोकसभा सीट पर भाजपा के उम्मीदवार संजय भाटिया और कांग्रेस उम्मीदवार कुलदीप शर्मा के बीच टक्कर होगी। कुलदीप शर्मा के पिता चिरंजीलाल शर्मा यहां से चार बार सांसद रहे हैं। कुलदीप ने उन्हीं के नाम पर वोट मांगे हैं। तो संजय भाटिया ने मोदी के नाम पर वोट बटोरने चाहे।

सिरसा

सिरसा में मौजूदा सांसद इनेलो के चरणजीत सिंह रोड़ को ही इस बार चुनाव मैदान में उतारा गया है। लेकिन मुख्य मुकाबला कांग्रेस नेता अशोक तंवर और भाजपा की उम्मीदवार सुनीता दुग्गल के बीच माना जा रहा है। क्योंकि अशोक तंवर का गृह क्षेत्र है औऱ सुनीता दुग्गल को भाजपा ने शुरूआत में ही तय कर लिया था।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *