क्रूड हुआ 30% सस्ता, लेकिन पेट्रोल और डीजल के दाम में नहीं आई अधिक गिरावट

Breaking चर्चा में दुनिया देश बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Panchkula, 28 Nov, 2018

पिछले सात हफ्ते में अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चा तेल 30% सस्ता हुआ है, तो वहीं डेढ़ महीने में रुपया भी 5% मजबूत हुआ है। लेकिन तेल बेचने वाली कंपनियों ने इससे हुए फायदे का कुछ हिस्सा ही लोगों को दिया है।

बता दें कि ईरान पर प्रतिबंध होने के बावजूद अमेरिका ने भारत समेत कुछ देशों को वहां से कच्चा तेल खरीदने की छुट दी है। जिससे ग्लोबल मार्किट में डिमांड से ज्यादा सप्लाई है। वहीं पेट्रोल पर कंपनियों का ग्रॉस मार्जिन 723%  और डीजल पर 231 % बढ़ा है। सभी रिफानरी कंपनिया कच्चे तेल की कीमत का 15 दिनों का औसत जोड़ती हैं।

जिसके बाद दुलाई खर्च और डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत के आधार पर कच्चे तेल से ईंधन बनाने का खर्च निकलता है। यही कन्वर्जन कॉस्ट है और यह 15 अक्टूबर को सबसे ज्यादा था। तबसे पेट्रोल की कन्वर्जन कास्ट 27% और डीजल की 18% कम हुई है। लेकिन पेट्रोल का रेट 11.8% और डीजल के 8.7 % सस्ता हुआ है। कन्वर्जन कॉस्ट की कमी के अनुसार तेल के रेट कम करते तो इससे लोगों को भी ज्यादा फायदा मिलता।

तो वहीं हरियाणा में 16 अक्टूबर से पेट्रोल-डीजल में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है। तब से पेट्रोल-डीजल के रेट या तो घटे हैं या स्थिर रहे हैं। हालांकि 4 अंक्टूबर को पेट्रोल-डीजल के दाम रिकॉर्ड ऊंचाईयों पर थे। 1 लीटर पेट्रोल 83.99 रुपये और डीजल 75.91 रुपये था। आज पेट्रोल 72.27 रुपये और डीजल 67.39 रुपये है। तब से पेट्रोल में 11.54 और डीजल के रेट में 8.52 रुपये की कमी आई है।

इसके साथ ही 3 अक्टूबर को ग्लोबल मार्किट में क्रूड की कीमत 86 डालर प्रति बैरल से अधिक थी। जो की अब 60 डॉलर के पास है। यानि की यह 30% सस्ता हुआ है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *