पुलिस समाज में जो बदलाव लाना चाहती है, उसे पहले अपने में लाएं – रेखा शर्मा

हरियाणा

हरियाणा पुलिस अकादमी मधुबन के हर्षवर्धन सभागार में राष्ट्रीय महिला आयोग नई दिल्ली के तत्वावधान में कम्युनिटी पुलिसिंग विषय पर एक दिवसीय कार्याशाला का आयोजन किया गया।

हरियाणा के विभिन्न जिलों से लगभग 380 पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों ने इस कार्यशाला में भाग लिया। जिसमें राष्ट्रीय महिला आयोग की चेयरपर्सन रेखा शर्मा ने बतौर मुख्यअतिथि शिरकत की।

रेखा शर्मा ने कहा कि पुलिस समाज में जो बदलाव लाना चाहती है, उस बदलाव को वो पहले अपने में लाएं। जिससे समाज में अपने आप ही बदलाव हो जाएगा।

पुलिस समाज का ही अंग है और उसी समाज के बीच रहकर पुलिस को बहुत ही सुझ- बुझ के साथ कार्य करना चाहिए।
शर्मा ने कहा कि महिलाओं की सहायता के लिए अलग से महिला थानें भी हरियाणा में खोले गए हैं, ताकि पीड़ित महिलाओं को अपनी बात सांझी करने में किसी भी प्रकार की झिझक न हो।
इसलिए महिला पुलिसकर्मियों को इस बात का ध्यान अवश्य रखना चाहिए कि उनके व्यवहार में पीड़ित महिला के प्रति विन्रमता हो।
जेण्डर सैंसीटाईजेशन केवल पुलिस का ही नहीं बल्कि समाज के उन लोगों का भी होना चाहिए जिनकी महिलाओं के प्रति नकारात्मक सोच है। आज के लौकतान्त्रिक परिवेश में पुलिस को अपनी परम्परागत सोच को त्यागकर लौकतान्त्रिक पुलिसिंग को अपनाना होगा।

राष्ट्रीय महिला आयोग के संयुक्त सचिव केएल शर्मा ने कहा कि पुलिस को पूर्वाग्रहों से ऊपर उठकर सोचना चाहिए। अक्सर सरकारी तन्त्र में काम करने वाले लोग अपने आप को मालिक समझ बैठते हैं। जिस दिन वो ये समझ लेंगे कि मालिक हम नहीं जनता है, तो सरकारी तन्त्र में बदलाव का होना स्वाभाविक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *