हरियाणा पुलिस को फिक्की स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से किया गया सम्मानित

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 24 August 2019 

हरियाणा पुलिस ने एक बार फिर प्रदेश का मान राष्ट्रीय स्तर पर बढ़ाया है। राज्य पुलिस को नई दिल्ली में आयोजित एक समारोह में फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) द्वारा दो स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित किया गया है।
फिक्की द्वारा प्रथम सम्मान प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण श्रेणी में ’डिजिटल जांच, प्रशिक्षण और विश्लेषण केंद्र (डीआईटीएसी)’ के तहत किए गए सफल प्रयासों के लिए दिया गया। जबकि हरियाणा पुलिस को दूसरा पुरस्कार ‘आपकी संगिनी’ के तहत सामुदायिक पुलिसिंग की श्रेणी में सर्वोत्तम प्रथाओं के बढ़ाने के लिए प्रदान किया गया है।

दो प्रतिष्ठित राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजे जाने पर पुलिस अधिकारियों को बधाई देते हुए, पुलिस महानिदेशक, हरियाणा श्री मनोज यादव ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर पहचान व सम्मान पाना पूरे पुलिस बल के लिए गर्व का क्षण है। उन्होंने डीआईटीएसी व आपकी संगिनी की समस्त टीम को उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन और इस पुरस्कार को प्राप्त करने के लिए भी बधाई दी।
हरियाणा पुलिस की तरफ से, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, सीआईडी श्री अनिल कुमार राव ने डीआईटीएसी स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड -2019 प्राप्त किया। जबकि आपकी संगिनी स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड डीसीपी ईस्ट गुरुग्राम, श्रीमती सुलोचना गजराज को दिया गया।

 

बता दें कि डीआईटीएसी की स्थापना सीआइडी के तत्वावधान में राष्ट्रीय तकनीकी अनुसंधान संगठन के सहयोग से गुरुग्राम में की गई है। अगस्त 2016 में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए थे। सीआईडी प्रमुख, अनिल कुमार राव के व्यक्तिगत प्रयासों से, डीआईटीएसी को एक रिकॉर्ड समय में स्थापित किया गया था और 28 दिसंबर, 2016 को मुख्यमंत्री, हरियाणा द्वारा इसका उद्घाटन किया गया था। सोशल मीडिया मॉनिटरिंग सेल, साइबर लैब और ट्रेनिंग लैब इसके तीन प्रमुख विंग हैं।

 

जबकि सामुदायिक पुलिसिंग श्रेणी के तहत तत्कालीन एसपी पलवल, सुलोचना गजराज ने आपकी संगिनी परियोजना की शुरुआत की थी। इसके तहत, महीने में दो बार चार दिवसीय जागरूकता सत्र मॉड्यूल का आयोजन किया गया। जिसमें पोक्सो और साइबर-क्राइम जागरूकता सत्र शामिल थे, जिसमें लडकियों व महिलाओं को आत्मरक्षा प्रशिक्षण दिया गया। ये जागरूकता सत्र पलवल जिले के चुनिंदा सरकारी स्कूलों और कॉलेजों सहित गांवों में आयोजित किए गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *