हरियाणा रोडवेज विभाग में बड़े स्तर पर तबादले, सरप्लस दिखाकर बदले कंडक्टर-ड्राइवर

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 15 Dec, 2019

हरियाणा रोडवेज में तबादलों का दौर शुरू हो गया है। परिवहन निदेशालय ने विभिन्न डिपुओं के 429 चालकों और 225 परिचालकों को सरप्लस बताते हुए उनके तबादले कर दिए हैं। इससे भड़की कर्मचारी यूनियनों ने आंदोलन की धमकी दी है

ऑल हरियाणा रोङवेज वर्कर्स युनियन के राज्य प्रधान हरिनारायण शर्मा व महासचिव बलवान सिंह दोदवा ने बताया सरकार एक द्वैष भावना के तहत राजनेलाईजैशन के बहाने तबादला करके चालक व परिचालकों को घर से बेघर करने का काम कर रही है जो बिल्कुल अनुचित है। बेवजह अचानक तबादला होने के कारण कर्मचारियों में अफरा तफरी मची हुई है। युनियन किसी भी सुरत में जबरदस्ती तबादलों को बर्दाश्त नहीं करेगी।

हरियाणा में रोडवेज कर्मचारियों ने किया चक्का जाम का ऐलान, सोनीपत में कल से दो दिवसीय सम्मेलन

शर्मा व दोदवा ने बताया कि वर्ष 2014 में बसों की संख्या के नोरम के अनुसार प्रदेश के सभी डिपो व सब डिपुओं में कर्मचारी समायोजित थे लेकिन सरकार ने पुरे 5 साल के कार्यकाल में विभाग में एक भी नई बस नहीं बढ़ाई जिसको परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने भी अपने बयानों में खुद माना है कि भाजपा सरकार ने अपने 5 साल के कार्यकाल में परिवहन विभाग में एक भी नई बस नहीं दी।

नई बसें न आने व काफी संख्या में बसें कन्डम होने के कारण कर्मचारी सरप्लस दिखाकर 429 चालक व 225 परिचालकों का जबरदस्ती दुसरे डिपुओं में तबादला किया जा रहा है जबकि कर्मचारी का इसमें कोई दोष नहीं है। यह सब सरकार की गलत नीतियों व बसें न आने के कारण हुआ है। अगर सरकार समय पर बसें लेकर आती तो ऐसी नौबत नहीं आती।

हरियाणा रोडवेज के 4 कर्मचारी सस्पेंड, परिवहन मंत्री ने किया था औचक निरीक्षण

उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने एक दुसरे डिपो में समायोजित करना था तो कर्मचारियों की इच्छानुसार आवेदन मांगने चाहिएं थे तथा जो कर्मचारी स्वेच्छा से किसी डिपो में जाना चाहता है तो उसी का तबादला करना चाहिए था सभी का नहीं। सरकार द्वारा जबरदस्ती किये जा रहे तबादलों के कारण कर्मचारियों में काफी रोष है। युनियन ने चेतावनी दी है कि अगर सरकार ने जबरदस्ती किये जा रहे तबादलों पर तुरन्त रोक नहीं लगाई तो रोङवेज कर्मचारियों द्वारा एक बड़ा आन्दोलन किया जायेगा। जिसकी सारी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *