37.9 C
Haryana
Monday, September 21, 2020

रोटी के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा यह हरियाणा का वुशू नेशनल चैंपियन

Must read

पीपली में किसानों पर नहीं हुआ कोई लाठीचार्ज, पुलिसकर्मियों ने केवल किया Self Defense- CM

Yuva Haryana News Chandigarh, 21 September, 2020 सीएम मनोहर लाल ने चंडीगढ़ में एक प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि सेवा ही संगठन है और...

IPL 2020: Chennai Super Kings को राहत, मैच से पहले कोरोना को मात देकर फिर लौटा खिलाड़ी 

Yuva Haryna News Chandigarh , 21 September , 2020 इंडियन प्रीमियर लीग 2020 यानि IPL 2020 शुरू हो चुके हैं। कल Chennai Super Kings का मैदानी मुक़ाबला राजस्थान...

Haryana Police के 5 IPS बने ASP, तो 2 HPS को DSP का तोहफा

Yuva Haryana News Chandigarh, 21 September, 2020 हरियाणा पुलिस के पांच IPS को ASP बनाया गया है। तो 2 HPS को भी DSP नियुक्त किया गया...

अब पटरी पर दौड़ेंगी छह क्लोन Train, जानिए कहा के लोगों को मिलेगी सुविधा 

Yuva Haryana News Ambala , 21 September , 2020 हरियाणा वासियों को आए दिन कोई न कोई बड़ी सौगात मिलती रहती है। कोरोना काल को देखते...

Suman Kashyap, Yuva Haryana

Haryana, 13-05-2018

एक ओऱ जहां कॉमनवेल्थ गेम्स में मेडल जीतने वाले खिलाड़ियों को सरकार सम्मानित करने के लिए तारीखें तय कर रही हैं, और ईनाम राशि में लाखों की बौछार कर रही हैं, वहीं दूसरी तरफ वुशु में सात बार नेशनल चैंपियन रहे, संजय को रोटी जुटाने और परिवार को पालने के लिए दर-दर की ठोकरें खानी पड़ रही हैं।

ये वुशु चैंपियन गरीबी से इतना तंग आ गया है कि मेडल तक बेचने को मजबूर हो गया है। जी हां, रोहतक के लाखनमाजर का संजय वुशु में 9 बार और स्टेट में 7 बार नेशनल चैंपियन रहा यह खिलाड़ी परिवार का पेट पालने के लिए दिहाड़ी लगाने के लिए मजबूर है।

संजय का कहना है कि रोजगार के लिए उसने सीएम से लेकर पीएम तक मदद के लिए हाथ फैलाए, लेकिन किसी ने उस पर तरस नहीं खाया।

संजय ने बताया कि उसने 14 साल मेहनत सोचकर की, वह खेलों के माध्यम से अच्छे मुकाम पर पहुंचेगा। लेकिन रोजगार पाने के लिए उसकी 14 साल की मेहनत भी रंग न लाई।

सम्मान पत्र और ढेर सारे मेडलों के बावजूद भी वह पाई- पाई के लिए तरस रहा है। संजय के पिता का साया सर से उठ जाने के बाद वही परिवार का पालन-पोषण कर रहा है।

उसका एक बच्चा भी है, जिसका भविष्य भी अंधेरे में है। उसने निराशा में यह तक कह डाला कि यह मेडल और सर्टिफिकेट उसके लिए रद्दी बन गए है। इनका उसके जीवन में कोई महत्व नहीं रह गया है।

 

More articles

Latest article

पीपली में किसानों पर नहीं हुआ कोई लाठीचार्ज, पुलिसकर्मियों ने केवल किया Self Defense- CM

Yuva Haryana News Chandigarh, 21 September, 2020 सीएम मनोहर लाल ने चंडीगढ़ में एक प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि सेवा ही संगठन है और...

IPL 2020: Chennai Super Kings को राहत, मैच से पहले कोरोना को मात देकर फिर लौटा खिलाड़ी 

Yuva Haryna News Chandigarh , 21 September , 2020 इंडियन प्रीमियर लीग 2020 यानि IPL 2020 शुरू हो चुके हैं। कल Chennai Super Kings का मैदानी मुक़ाबला राजस्थान...

Haryana Police के 5 IPS बने ASP, तो 2 HPS को DSP का तोहफा

Yuva Haryana News Chandigarh, 21 September, 2020 हरियाणा पुलिस के पांच IPS को ASP बनाया गया है। तो 2 HPS को भी DSP नियुक्त किया गया...

अब पटरी पर दौड़ेंगी छह क्लोन Train, जानिए कहा के लोगों को मिलेगी सुविधा 

Yuva Haryana News Ambala , 21 September , 2020 हरियाणा वासियों को आए दिन कोई न कोई बड़ी सौगात मिलती रहती है। कोरोना काल को देखते...

Unlock- 4 के बीच कई चीजों में लोगों को आज से मिलेंगी रियायतें, जानिये-

Yuva Haryana News Chandigarh, 21 September, 2020 कोरोना काल में बंद हो चुकी कई चीजों को अनलॉक की प्रक्रिया के तहत खोला जा रहा है। देश...