स्वास्थ्य विभाग व सीआईए टीम ने मारा छापा, भारी मात्रा में नशीली और प्रतिबंधित दवाओं का जखीरा बरामद

Breaking बड़ी ख़बरें हरियाणा

Suren Sawant, Yuva Haryana

Sirsa

 

सिरसा के बेगू रोड पर गिरधर मेडिकल हाल पर की गई छापेमारी से पुलिस को कई अहम सुराग हासिल हुए हैं । मेडिकल हाल के संचालक से पूछताछ में पुलिस को मुख्य सप्लायर का पता चला है । रानिया रोड पर बाबा बिहारी समाधि के नजदीक गली में नशीली दवाओं का गोदाम बनाया गया था । यह गोदाम सुरजीत उर्फ पप्पू चावला का बताया गया है। शेखरचंद  नामक व्यक्ति इसे किराये पर लेकर यह गोरखधंधा चला रहा था।

पुलिस ने आरोपी चंद्रशेखर को काबू कर लिया गया है। आरोपी ने खुलासा किया है कि बिहार से सभी प्रतिबंधित दवाये लेकर आता था। वहीं पुलिस अधीक्षक हामिद अख्तर व वरिष्ठ दवा नियंत्रक निरिपन गोयल के नेतृत्व में पुलिस ने गोदाम का जायजा लिया। इस गोदाम से भारी मात्रा में प्रतिबंधित नशीली दवाइयां दवाइयों का जखीरा बरामद हुआ। साथ ही 200 से भी अधिक एमटीपी किट बरामद हुई है। एमटीपी किट का इस्तेमाल गर्भपात में किया जाता है। इसके अलावा  20 हजार ट्रामाडोल , 408 नशे के फोर्टविन इंजेक्शन, 12 सौ अल्प्राजोलम गोलियां बरामद की गई है। छापेमारी में प्रतिबंधित ऑक्सीटोसिन के 3400 वायल्स बरामद किये गए है । ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन का  प्रयोग पशुओं में दूध बढ़ाने के लिये किया जाता है।

पुलिस अधीक्षक हामिद अख्तर ने बताया कि ऑपरेशन प्रबल प्रहार के दौरान यह बड़ी कार्रवाई पुलिस द्वारा की गई है। बड़े पैमाने पर दवाइयां बरामद हुई है। नशीली गोलियां मिली है। प्रबल प्रहार अभियान को बड़ी सफलता इस कार्रवाई से मिली है। आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के अतिरिक्त दूसरी धाराओं के तहत भी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी । उन्होंने बताया की आज दिन में बेगू रोड पर गिरधर मेडिकल स्टोर पर छापेमारी से मेडिकल संचालक से पूछताछ से इस गोदाम का खुलासा हुआ है।

फिलहाल गोदाम संचालक आरोपी शेखरचंद को काबू कर लिया गया है और गोदाम के मालिक की तलाश अभी जारी है। उन्होंने बताया कि काबू किये शेखरचंद ने खुलासा किया है कि वह ये दवाएं गया बिहार से लेकर आता था। पुलिस अधोक्षक ने बताया कि अभी इस बात का भी पता लगाया जा रहा है कि यह किन किन को मेडिकल नशा सप्लाई करता था। साथ ही उन्होंने कहा कि सिविल सर्जन को अवगत करवा दिया गया है और यह पता लगाया जायेगा कि क्या कोई हॉस्पिटल संचालक भी इसमें शामिल है।

वरिष्ठ दवा नियंत्रक निरीक्षण गोयल ने बताया कि इतनी बड़ी संख्या में एमटीपी किट और प्रतिबंधित नशीली दवाओं का जखीरा पहली बार पकड़ा गया है। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *