रेवाड़ी के गांव रतनथल के स्कूल में अध्यापकों की भारी कमी, साइंस की जगह मजबूरी में आर्ट पढ़ रहे है छात्र

Breaking बड़ी ख़बरें युवा सरकार-प्रशासन हरियाणा

Devender Singh, Yuva Haryana

Kosli

बिना शिक्षक हम छात्रों के एक बेहतर भविष्य की उम्मीद नहीं कर सकते है। ऐसे में वो भी तब जब सरकार हरियाणा को शिक्षा का हब बनाना चाहती है। लेकिन स्कूलों में शिक्षकों के ना होने का खामियाजा बच्चों को साइंस की जगह मजबूरी में आर्ट पढ़कर भुगतना पड़ रहा है।

 

रेवाड़ी जिले के गांव रतनथल के राजकीय सीनियर सेकेंडरी में पिछले साल करीब 600 विद्यार्थी शिक्षा ले रहे थे। लेकिन स्कूल में शिक्षकों की कमी के चलते अब इस स्कूल में 498 छात्र ही रह गए है।

 

पिछले डेढ़ साल से स्कूल में मैथ, फिजिक्स, तो क्या सोशल साइंस तक के टीचर नहीं है। फिलहाल स्कूल में 10 शिक्षकों की जरूरत है। ग्राम पंचायत ने अब फैसला लिया है की अगर सरकार समय रहते स्कूल में शिक्षकों की कमी पूरी कर देती है तो ठीक है वरना उन्हें मजबूरन स्कूल को ताला लगाना पड़ेगा।

 

वहीं गांव वालों का कहना है कि ऐसा नहीं हैं की इस समस्या को लेकर शिकायत नहीं की हो। अब तक जिला शिक्षा अधिकारी, जिला उपायुक्त, शिक्षा मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक से शिक्षकों की कमी को लेकर ग्रामीण फरियाद कर चुके है। लेकिन सरकार ने अब तक नहीं सुनी है।

 

बच्चों की माने तो स्कूल में मैथ और साइंस के शिक्षक नहीं होने की वजह से स्कूल का परीक्षा परिणाम ख़राब रहा जिसकी वजह से कुछ छात्र स्कूल छोड़ चुके है। लेकिन सरकार है कि अब तक इस और ध्यान नहीं दे पा रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *