PGT के लिए B.Ed पास होने की शर्त को हाईकोर्ट में मिली चुनौती

चर्चा में बड़ी ख़बरें युवा रोजगार हरियाणा

Yuva Haryana,

Chandigarh, (30-3-2018)

महेंद्रगढ़ के चांदपुरा के गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल की बॉयलोजी की दो लेक्चरार ने पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट में पोस्ट ग्रजुएट टीचर्स PGT के लिए एक अप्रैल तक B.Ed पास होने की शर्त को चुनौती दी है।

याचिका पर जस्टिस आरएन रैना ने हरियाणा सरकार के स्कूली शिक्षा विभाग और डायरेक्टर जनरल स्कूली शिक्षा विभाग को नोटिस जारी करते हुए अगले आदेशों तक शिक्षिकाओं को नौकरी से न निकाले जाने के आदेश दिए है। इस मामले पर 17 मई के लिए अगली सुनवाई तय की गई है।

चांदपुरा के गवर्नमेंट सीनियर सेकेंडरी स्कूल की लेक्चरार संतोष कुमारी और कनीना की गवर्नमेंट गल्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल की लेक्चरार शशिकला की तरफ से याचिका दायर कर कहा गया कि उन्होंने M.Sc बायोटेक से की।

इसके बाद हरियाणा स्टेट इलिजबिलिटी टेस्ट क्लियर कर नौकरी हासिल की। याचियों की तरफ से वकील मजलिश खान और राहुल कक्कड़ ने कोर्ट में कहा कि एक तरफ जहां नेशनल काउंसिल फॉर वोकेशनल ट्रेनिंग B.Ed की डिग्री डिस्टेंस एजूकेशन से करने पर रोक लगा रहा है वहीं इन टीचर्स को नौकरी में रहते B.Ed करने के लिए कहा जा रहा।

इसके लिए 1 अप्रैल 2018 तक B.Ed करने को कहा गया है। यह एक तरह से इन्हें नौकरी से निकाले जाने का रास्ता बनाया गया है।

दूसरी तरफ मेवात एरिया के लिए B.Ed पास करने की योग्यता में छूट दी गई है जो संविधान में दिए गए समानता के अधिकार की अनदेखी है। याचिका पर प्राथमिक सुनवाई के बाद जस्टिस रैना ने हरियाणा स्कूली शिक्षा विभाग को नोटिस जारी करते हुए अगले आदेशों तक शिक्षकों को नौकरी से न निकालने जाने के निर्देश दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *