यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार और विजिलेंस ब्यूरो को हाईकोर्ट ने भेजा नोटिस

हरियाणा

हिसार स्थित गुरु जम्बेश्वर यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नालॉजी में औद्योगिक इकाइयों और कंपनियों को पॉल्यूशन चेक सर्टिफिकेट जारी करने के मामले में जनहित याचिका पर पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने स्टेट विजिलेंस ब्यूरो और यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

एनवायरनमेंटल साइंस एंड इंजीनियरिंग के प्रोफेसर मुकुल शाह बिश्नोई की तरफ से दाखिल जनहित याचिका में कहा गया कि यूनिवर्सिटी में कोई लैब नहीं है, फिर भी पॉल्यूशन चेक सर्टिफिकेट जारी हो रहे हैं। लैब है ही नहीं और दावा है कि लैब हरियाणा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से रिकॉग्नाइज्ड है।

सूचना के अधिकार के तहत मिली जानकारी का हवाला देते हुए कहा गया कि हरियाणा स्टेट विजिलेंस ब्यूरो ने भी इंक्वायरी रिपोर्ट में माना है कि यह तथ्य सही है। इस बारे में राज्य के मुख्य सचिव और वाइस चांसलर को भी रिपोर्ट भेजी गई थी। साजिश के तहत लैब का गठन नहीं किया गया और इसे राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से मान्यता प्राप्त दर्शाया गया।

औद्योगिक इकाइयों से पॉल्यूशन टेस्टिंग फीस के नाम पर बड़ी राशि ऐंठी जा रही है। इस बारे में वाइस चांसलर को 18 मार्च 2014 को लिखित शिकायत देकर जांच कराने की मांग की गई थी। कोई कार्रवाई न होने पर हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर जांच कराने की मांग की गई है। जस्टिस अजय कुमार मित्तल व जस्टिस अनुपिंदर सिंह ग्रेवाल की खंडपीठ ने नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *