हाईकोर्ट का सरकारी डॉक्टरों के खिलाफ नोटिस, निजी क्लीनिक चलाने वालों पर होगी कार्रवाई

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Chandigarh, 19 July, 2018

हाईकोर्ट ने हरियाणा सरकार को सरकारी डॉक्टरों द्वारा निजी क्लीनिक चलाने को लेकर नोटिस जारी किया है। प्रदेश में जितने भी सरकारी डॉक्टर है, उन्हें अपना निजी क्लीनिक चलाना अब महंगा पड़ने वाला है।

इन सभी डॉक्टरों के खिलाफ एक याचिका भी दायर हुई है। जिसके चलते हाईकोर्ट ने सरकार के साथ स्वास्थ्य महानिदेशक, रेवाड़ी के सिविल सर्जन और मेडिकल काउंसिल हरियाणा के रजिस्ट्रार को भी नोटिस भेजा है। हाईकोर्ट की तरफ से 13 अगस्त को इस मामले में जवाब पेश करने के लिए भी कहा गया है।

बता दें कि यह याचिका एडवोकेट विनीत जाखड़ द्वारा दायर की गई है, जिसमें कहा गया है कि सरकारी अस्पतालों से डॉक्टर्स नदारद होकर अपने निजी क्लीनिक चला रहे हैं। उन्होंने बताया कि रेवाड़ी में 21 डॉक्टरों द्वारा अपने निजी क्लीनिक चलाए जा रहे हैं। जिस कारण सरकारी अस्पतालों में आम- जन को सुविधाएं प्राप्त नहीं होती हैं।

एडवोकेट विनीत जाखड़ ने बताया कि उन्होंने ड्यूटी से नदारद सिविल सर्जन के खिलाफ सीएम विंडो में भी शिकायत दर्ज करवाई थी। जिसके बाद स्वास्थ्य निदेशालय से इस डॉक्टर पर 25 लाख का जुर्माना लगाया गया था, लेकन न तो अब तक डॉक्टर ने ड्यूटी ज्वाइन की और न ही जुर्माना दिया।

याचिकाकर्ता जाखड़ ने इन सभी सरकारी डॉक्टरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई को कहा है और इनका लाइसेंस भी रद्द करने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि लोगों को इस कारण काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। आम आदमी के स्वास्थ्य के साथ यह एक बड़ा खिलवाड़ है।