गर्लफ्रेंड का गला घोंटकर की थी हत्या ,हाई कोर्ट ने जज से पूछा -कैसे दी 17 साल के नाबालिग को 10 साल की सजा ?

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana

Chandigarh, 24 July, 2018

प्यार में अक्सर लोग धोखा खा जाते हैं। लेकिन वो कहते हैं न कि जब कोई प्रेम में होता है, तो उसे सही और गलत की पहचान भी नहीं होती है। यहां एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें एक युवती ने अपनी शादी- शुदा गृहस्ती छोड़ दी और अपने बॉयफ्रंड के पास रहने लगी। लेकिन जितना जल्दी यह जोड़ा प्यार में फंसा था, उतना ही जल्दी प्यार को ख़त्म भी कर दिया गया।

कुछ ही समय में इस 17 वर्षीय प्रेमी ने अपनी गर्लफ्रेंड का गला घोंटकर हत्या कर दी थी। एडिशनल डिस्ट्रिक्ट एंड सेशंस जज पूनम जोशी ने मार्च 2018 में आरोपी को 10 साल की सजा सुनाई थी और कहा था की आरोपी 21 साल की उम्र तक जुवेनाइल होम में रहेगा ,जबकि इसके बाद वह बुड़ैल जेल में कैदियों के साथ रहकर सजा भुगतेगा।

बता दें कि इस जजमेंट के बाद पंजाब- हरियाणा हाई कोर्ट ने जज से लिखित जवाब मांगा है। उन्होंने कहा है की कौन से कानून के तहत जज ने एक नाबालिग को 10 साल की कड़ी सजा सुना दी। जबकि कानून के मुताबिक नाबालिग को 3 साल से ज्यादा की सजा हो ही नहीं सकती। यह नोटिस हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार विजिलेंस की तरफ से जारी किया गया है, लेकिन अभी तक जज ने कोई जवाब नहीं दिया है।

क्या है मामला-

2016 में गांव फैदा की रहने वाली 19 साल की अनीता ने शादी के बाद अपने पति को छोड़ दिया था। जिसके बाद वह 17 साल के नाबालिग लड़के के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रहने लग गई थी। 10 अगस्त को अनीता का शव उसके घर से मिला था। पहले पुलिस मामले की कार्रवाई सुसाइड मानकर कर रही थी, लेकिन बाद में सबूतों के चलते यह तय हो गया कि उसके बॉयफ्रेंड ने ही उसका गला घोंट कर हत्या की थी। इसी के चलते आरोपी को यह सजा सुनाई गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *