चंडीगढ़ जाकर ही रुकेगा जनक्रांति यात्रा का पहिया – भूपेंद्र सिंह हुड्डा

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 02 July, 2018

पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की जनक्रांति यात्रा आज नूंह विधानसभा में पहुंची। यहां पर भीड़ को देखकर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा जहां खुश दिखे तो वहीं उन्होने कहा कि अब यह जनक्रांति रथ यात्रा चंडीगढ़ में जाकर रुकेगी। आज सुबह रथ यात्रा शुरू करने से पहले भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने अलवर रोड के क्रांति पार्क में 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में शहीद हुए सूरमाओं को श्रद्धा सुमन अर्पित किये।

नूंह के आकेड़ा गांव में एक जनसमूह को संबोधित करते हुए भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि जो जनसमर्थन जनता दे रही है उनके लिए वो आभारी हैं। हुड्डा ने जनता से वायदा करते हैं कि वे उनकी पसीने की एक बूंद को भी जाया नहीं जाने देंगे और भाजपा की  जनविरोधी सरकार से एक-एक बूंद का हिसाब लेकर रहेंगे। आज हमारे तीसरे चरण की जनक्रांति रथ यात्रा का आखरी दिन है जिस तरह से आप लोगों का समर्थन और स्नेह मिला है उससे तय है कि सत्ता की मंजिल अब ज्यादा दूर नहीं है। हमारी जनक्रांति रथ यात्रा का पहिया अब चंडीगढ़ जाकर ही रुकेगा।

उन्होंने पूर्व मंत्री आफ़ताब अहमद की प्रशंसा करते हुए कहा कि आफ़ताब जब भी मेरे से मिले, हमेशा उन्होंने आपकी चिंता की और व्यक्तिगत हित छोड़ कर हलके के कामों को तवज्जो दी।
हुड्डा का रथ जहां जहां से गुजरा बिना तय कार्यक्रम के भी लोगों ने भारी संख्या में एकत्रित होकर उनका रथ रोककर गर्मजोशी से उनका स्वागत किया और उनके संघर्ष में कंधे से कंधा मिलाकर साथ देने का वादा किया।

आकेडा के बाद मेवली, सुडाका, आलदोका, इंडरी, रोजकामेव पहुँचे हुड्डा ने कहा कि हमारा नारा था ‘वायदा कम और काम घणा’ वहीँ इनेलो और भाजपा का नारा रहा है कि ‘काम थोडा और झूठ घणा’। उन्होंने अपने शासनकाल में किये गये कामों की याद दिलाते हुए कहा कि आप शहीद हसन खां मेवाती मेडिकल कॉलेज, आईएमटी, कोटला झील, 483 गाँव की राजीव गाँधी पेयजल योजना, 11 आईटीआई, अनेकों पॉलिटेक्निक आदि अनेक योजनाओं में लगी किसी भी ईंट को उठा कर देखोगे तो उसपर हमारा नाम मिलेगा।

दूसरी तरफ भाजपा और इनेलो के पास गिनाने और दिखाने को कुछ भी नहीं है। लेकिन मुझे अफ़सोस है कि आज मेडिकल कॉलेज में न डॉक्टर है न दवाई है, आईएमटी में कारखाने नहीं हैं, कोटला झील का विस्तार करना तो दूर इस सरकार ने एक ईंट तक नहीं लगाई। एक तरह से भाजपा ने मेवात को प्रदेश का हिस्