गुरुग्राम में रैपिड मेट्रो को लेकर न्यायालय से आस !

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Manu Mehta, Yuva Haryana

Gurugram, 9 September 2019 

साइबर सिटी गुरुग्राम में आईएल एंड एफएस इंफ्रास्ट्रक्चर द्वारा रैपिड मेट्रो संचालन बंद करने को लेकर दिए गए नोटिस का सोमवार को अंतिम दिन है। कंपनी द्वारा पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में दायर की गई याचिका पर सोमवार को सुनवाई होनी है। इसको लेकर कंपनी, हरियाणा सरकार, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण यानी एचएसवीपी व गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण यानी जीएमडीए सबकी निगाहें उच्च न्यायालय पर टिक गई हैं। बता दें कि रैपिड रेल संचालन करने वाली कंपनी आईएल एंड एफएस ने 90 दिन पहले एचएसवीपी को नोटिस देकर संचालन की बागडोर संभालने का आग्रह किया था।

 

इस पर एचएसवीपी ने इस नोटिस को हरियाणा सरकार को भेजा था। हरियाणा सरकार ने इस पर फैसला लेना था। इसके संचालन के लिए जीएमडीए से विचार विमर्श किया गया। जीएमडीए के अधिकारियों ने हरियाणा मास रेपिड ट्रांसपोर्ट कार्पोरेशन एचएमआरटीसी के तहत मेट्रो इसके संचालन के लिए सरकार को हामी भी भर दी। इस बात को हरियाणा के कैबिनेट मंत्री राव नरबीर सिंह ने साफ कर दिया कि सरकार इसे चलाना चाहती है।

 

बता दें कि जीएमडीए ने 5 वर्ष तक डीएमआरसी की मदद से इसका संचालन करने की बात कही ताकि एचएमआरटीसी के अधिकारी व कर्मचारी इसमें अनुभव प्राप्त कर लें। लेकिन रैपिड मेट्रो की आड़ लेकर जब कंपनी ने अपना 3 हजार करोड़ रुपये का घाटा भी सरकार को देना चाहा तो सरकार ने इस नोटिस को अवैध करार दे दिया। फिलहाल मामला कोर्ट में है और कोर्ट ही निर्णय करेगा। लेकिन जब इस संबंध में हरियाणा के कैबिनेट मंत्री राव नरबीर से पूछा गया कि इस मामले में किसी निजी बिल्डर को फायदा पहुंचाया गया है, तो राव नरबीर ने कहा कि ये पूरा खेल कांग्रेस के शासन काल के दौरान हुआ है।

 

देश की पहली निजी मेट्रो आर्थिक घाटा की दौर से गुहर रही है। ऐसे में कंपनी इसे हरियाणा सरकार को देना चाहती है। लेकिन इस पूरे प्रकरण में ये भी बात सामने आ रही है, कि कांग्रेस शासन काल के दौरान रैपिड मेट्रो के नाम पर निजी बिल्डर को  फायदा पहुंचाया गया और अब कंपनी संचालन में नुकसान का हवाला देकर हरियाणा सरकार को इसका संचालय सौंपना चाहती, हालांकि मामला न्यायालय के अधिन है और ऐसे में कोर्ट ही निर्णय लेगा कि रैपिड मेट्रो का संचालय सरकार करेगी या फिर देश का एकमात्र निजी मेट्रो बंद हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *