33 साल में 70 तबादलें झेल कर रिटायर हुए IAS प्रदीप कासनी, 6 महीने से बिना वेतन के कर रहे थे काम

Breaking बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

चर्चित IAS अधिकारी प्रदीप कासनी आज रिटायर हो रहे है। 1980 बैच के HCS के अफसर कासनी 1997 में पदोन्नति पाकर IAS बने थे। 1984 में हरियाणा सरकार में अपनी सेवा शुरु की थी। हरियाणा की आज सरकार में ही इनका 14 बार से ज्यादा तबादला हो चुका है।

अपने काम के तरीके को लेकर कासनी हमेशा से सरकार के निशाने पर रहे है, 33 साल की सर्विस में 70 तबादलों को झेल चुके IAS कासनी को 6 महीने से वेतन नहीं मिला, और आज वे बिना वेतन रिटायर होंगे।

अपने वेतन और वाहन आदि की सुविधा के लिए कासनी कैट में लड़ाई लड़ रहे है। कासनी लैंड यूज बोर्ड के OSD पद से रिटायर होंगे। कासनी जिस पोस्ट से रिटायर हो रहे है, असल में वह पद सरकार में है ही नहीं। कासनी ने आरटीआइ लगाई थी,  जिसके जवाब में सरकार ने माना कि लैंड यूज बोर्ड वर्ष 2008 से अस्तित्व में ही नहीं है। साल 2007 में यह पर्यावरण विभाग के अधीन था। बाद में इसे कृषि विभाग के अधीन लाया गया, लेकिन कृषि विभाग ने केंद्र सरकार को इस विभाग को बंद करने का प्रस्ताव भेजा, जो मंजूर हो चुका था।

इस पद के अस्तिव में ना होने के कारण ही कासनी को वेतन-भत्ता आदि नहीं मिला है। इस पद को उन्होंने घर बैठकर चलाया था। बता दें कि 2008 में लैंड यूज बोर्ड हुआ करता था। लेकिन अब यह पद ही नहीं है, इस पद से रिटायर पूर्व IAS रिटायर रामसहाय वर्मा नें अपनी बुक “लाल्स ऑफ हरियाणा” में लिखा है कि यह पद पर रहने मेरे लिए बेहतर रहा, क्योंकि ना तो कोई काम था, इसलिए किताबें ही लिखने बेहतर था।

सरकार से नहीं, IAS एसोसिएशन से खफा हूं

कासनी ने अपनी रिटायरमैंट से पहले अपनी नाराजगी को जाहिर कर दिया है। अन्होंने सरकार पर आरोप लगाया है कि सरकार सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देशो को अनदेखा कर रही है। कासनी की नाराजगी एसोसिएशन से भी है, उन्होंने कहा कि मेरे सहयोगियों से जो साथ मिलना चाहिए था वो मुझे नहीं मिला। 70 तबादलों पर मेरे लिए मेरी एसोसिएशन सामने नहीं आई और ना मेरे लिए कोई आवाज उठाई।

IAS कासनी ने दिल्ली के सचिव के साथ हुई घटना पर साथ देते हुए कहा कि जब उनके साथ सब खड़े है तो मेरे साथ क्यूँ नहीं।

विज ने कासनी को दिया पार्टी का न्योता

अपने सहयोगियों द्वारा चाय पार्टी देने पर कासनी साफ कह चुके है कि आप मेरे घर आईये हम आपको चाय पिलाएंगे, इससे कासनी की नाराजगी एसोसिएशन के प्रति साफ दिख रही थी। लेकिन अब अंबाला में भाजपा नेता अनिल विज ने उन्हें पार्टी में शामिल होने का दिया है। विज ने कासनी को
ईमानदार और जुझारु अधिकारी कहते हुए सरकार में उनकी कमी खलने की बात कही है। विज ने कासनी की तारीफ करते हुए कहा कि प्रदीप कासनी स्ट्रेट फॉरवर्ड अधिकारी है और अब रिटायर्ड होने जा रहे है। कासनी के राजनीति में जाने बातों पर विज ने कहा कि वो तो हर आदमी का अपना अधिकार है। रिटायर्ड होने के बाद किसी भी पार्टी में जा सकते है। अगर वो राजनीति में जाकर भाजपा में आना चाहते है तो भाजपा में उनका स्वागत है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *