बेटी पैदा हुई, तो ससुराल वाले विवाहिता के हाथ-पैर बांधकर छोड़ आए मायके, फांसी पर लटकाने की भी कोशिश

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Devender Singh, Yuva Haryana

Kosli, 18 Jan, 2019

जिस हरियाणा की धरती पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान की शुरूआत की थी, उसी जगह से यह अभियान भी अब दम तोड़ता नजर आ रहा है और सेवा सुरक्षा सहयोग का नारा देने वाली पुलिस भी इस तरह के मामलों में कार्यवाही करने के नाम पर लापरवाही बरतती हुई दिखाई पड़ रही है। ऐसा ही एक मामला रेवाड़ी जिला के गांव गुड़ियानी में  देखने को मिला है।

पीड़ित विवाहिता की माने तो उसने गत वर्ष 23 मई को उसने एक बेटी को जन्म दिया था। उसके बाद पूरा ससुराल परिवार उसका दुश्मन बन गया और कहने लगे तूने बेटी को जन्म क्यों दिया। जब बच्चा कोख में था तो परिवार वालों ने उसकी लिंग जांच भी करवाई। इसके बाद पूरा परिवार गर्भपात करवाने के लिए उस पर दबाव बनाने लगा, लेकिन ऐसा करने से उसने मना कर दिया।

उसका आरोप है कि इसी बात को लेकर गत 14 जनवरी को उसे ससुराल पक्ष के लोगों द्वारा फांसी पर लटकाने की कोशिश की गई। इसके बाद ये लोग उसके हाथ, पैर, मुंह बांधकर पीटते हुए माईके छोड़ गए। जब पीड़िता के परिवार को इस बात का पता चला, तो उन्होंने उसे रेवाड़ी के ट्रामा सैंटर में भर्ती करवाया, जहां करीब 4 दिनों तक पीड़िता का ईलाज चला। उधर पीड़िता के परिजनों ने भी पुलिस पर कार्यवाही न करने का आरोप लगाया है और ससुराल वालों के खिलाफ कानुनी कार्यवाही की मांग की है।

इसकी शिकायत कोसली पुलिस को दी गई, लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई है। जैसे ही इस मामल की जानकारी मीडिया को लगी, तब जाकर महिला पुलिस की निंद खुली और मौके पर पहुंची महिला पुलिस जांच अधिकारी ने बताया कि यह मामला अभी उनके संज्ञान में आया है। शीघ्र ही दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *