10वीं और 12वीं में कम्पार्टमेंट वाले छात्रों को मिल सकती है बड़ी सौगात, बोर्ड चेयरमैन ने दिये संकेत

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Jagbir Ghangash, Yuva Haryana

Bhiwani, 31 May, 2018

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के वार्षिक परिणामों में काफी ज्यादा संख्या में छात्र फेल होने पर शिक्षा बोर्ड की नींद उड़ी है। बोर्ड चेयरमैन ने इसे शिक्षा की बजाय शिक्षकों को नींद में पेपर चैक करने का कारण बताया है। बोर्ड चेयरमैन डा. जगबीर सिंह ने कहा है कि अध्यापक सही से पेपर चैक करें तो हमारा परिणाम बढ़ सकता है। इसके लिए उन्होंने नया तरीका सुझाते हुए कंपार्टमेंट वालों को भी पास में जोङने की बात कही है।

उन्होने कहा कि पेपर ठीक से चैक हों तो रिजल्ट सुधर सकता है। इसके साथ ही चेयरमैन ने कहा कि कंपार्टमैंट वाले बच्चों को भी पास में जोङा जाए। इससे भी रिजल्ट में बढोतरी होगी और इससे मुझे कोई परेशानी नहीं बल्कि खुशी होगी और इसके लिए नियम बदलना हो तो मैं तैयार हूं।

 

हाल ही में दसवीं और बारहवीं कक्षा के नतीजे आए हैं जिनमें पास प्रतिशत घटा है वहीं ओपन बोर्ड की परीक्षाओं में तो रिजल्ट तो बिल्कुल ही नीचे के लेवल पर पहुंच चुका है। ऐसे में बोर्ड के चेयरमैन ने नतीजों को लेकर रिव्यू किया गया है।

वहीं शिक्षा बोर्ड चेयरमैन की माने तो रिजल्ट कम आने के लिए शिक्षा विभाग या बोर्ड नहीं बल्कि शिक्षक कारण हैं। उन्होने कहा कि हमारे बच्चे पेपर पूरा करते हैं, लेकिन पेपर चैक करने वाले अध्यापक नींद में होते हैं जो उन्हे नाममात्र नंबर देते हैं।

चेयरमैन ने इसके लिए उदाहरण भी दिया और कहा कि आईआईटी की परीक्षा में बैठे 14 लाख बच्चों में से एक बच्चा 1027वां रैंक पाता है लेकिन बोर्ड परीक्षा में उसे फिजिक्स में 4 और अंग्रेजी में 11 नंबर देते हैं। उन्होने कहा कि बच्चे लिख लिख कर उत्तर पुस्तिका भर देते हैं और चैक करने वाले शिक्षक काटे लगा देते हैं।

 

बात दें कि चेयरमैन डा. जगबीर सिंह को राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी द्वारा हरियाणा स्टेट भारत स्काउट एंड गाइड एसोशिएसन का प्रदेश उपाध्यक्ष मनोनित किया गया है। अपने सम्मान समारोह में बोर्ड चेयरमैन ने सबसे पहले हरियाणा में 8 लाख स्काउट की संख्या से 16 लाख करने आदेश व निर्देश के लक्ष्य को जल्द पूरा करने की बात कही। साथ ही उन्होंने कहा कि स्काउट से बच्चों में संस्कार आएंगे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *