अविश्वास प्रस्ताव पर इनेलो ने BJP का साथ दिया या कांग्रेस का ? जानिये

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana
Chandigarh, 21 July, 2018

लोकसभा में कल यूपीए की तरफ से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर जमकर बहस हुई । इसको लेकर करीब आठ घंटे से ज्यादा चली बहस के बाद वोटिंग भी करवाई गई । वोटिंग में एनडीए ने बहुमत हासिल कर लिया और यूपीए इस वोटिंग में पिछड़ गई ।

हालांकि यूपीए की तरफ से लाए गए इस अविश्वास प्रस्ताव को लेकर पहले दिन से ही पूरी चर्चाए थी. बीजेपी की तरफ से सभी सांसदों को संसद में पहुंचने को लेकर व्हिप जारी किया गया था, संसद में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी सरकार पर कई आरोप भी लगाए थे।

इन आरोपों का जबाव तुंरत ही लोकसभा में रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया जिसके बाद कांग्रेस की किरकिरी भी हुई।

इस दौरान लोकसभा में इस अविश्वास प्रस्ताव में पक्ष में जहां 126 वोट पड़े वहीं इसके विरोध में 325 वोट पड़े । जिसके बाद यह अविश्वास प्रस्ताव लोकसभा में गिर गया।

लोकसभा में कांग्रेस की तरफ से लाए गए इस अविश्वास प्रस्ताव में इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला भी पहुंचे हुए थे, इनेलो सांसद ने अपने भाषण में मोदी सरकार के खिलाफ हल्ला भी बोला था।

लेकिन इनेलो ने अविश्वास प्रस्ताव में अपना मत कौनसी तरफ किया था इसका खुलासा नहीं हो पाया था, लेकिन अब आपको यह बताते हैं कि इनेलो ने किस दल को चुना था और किसको अपना वोट दिया था।

युवा हरियाणा को मिली कन्फर्म जानकारी के अनुसार इनेलो ने इस अविश्वास प्रस्ताव में किसी को वोट नहीं किया था। इनेलो ने बीजेपी सरकार को वोट ना देकर विरोध दर्ज करवा दिया और कांग्रेस को वोट ना देकर उनके साथ किसी प्रकार के सहयोग ना होने की बात को भी दिखा दिया।

लोकसभा में भाषण के बाद पीएम मोदी के गले मिले राहुल, बोले- मुझे बेसक पप्पू बोलो, मुझे कोई नफरत नहीं

इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला का इस बारे में कहना है कि “मोदी सरकार से लोगों को उन तमाम मुद्दों पर निराशा है जिनके वादे करके ये लोग सत्ता में आए थे। इन्होंने युवाओं को रोजगार नहीं दिया, महिलाओं की रक्षा नहीं कर सके, और किसानों को आंकड़ों के जाल में उलझा दिया, दिया कुछ नहीं। हमने अविश्वास प्रस्ताव की बहस का सदुपयोग इन पर सवाल पूछने के लिए किया। जहां तक कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष की बात है, ना उनके विरोध मे स्पष्टता है, ना उनके पास फिलहाल कोई क्षमता है सरकार गिराने की।”

तो देश की मौजूदा राजनीतिक स्थिति में आखिर इनेलो का स्टैंड है क्या, इस पर दुष्यंत कहते हैं कि “इनेलो का स्टैंड साफ है, हम सरकार से असंतुष्ट हैं लेकिन सरकार गिराने की कांग्रेस की कोशिश में उनके साथ नहीं है। वोट ना करना हमारा अधिकार है और हमने इसका इस्तेमाल कर हरियाणा के लोगों की असली भावना का परिचय दिया है कि वे भाजपा और कांग्रेस दोनों से ठगा महसूस कर रहे हैं।”

इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में किसानों, युवाओं के रोजगार और एसवाईएल का मुद्दा उठाया था. इस दौरान इनेलो सांसद ने पूछा था कि जनता अच्छे दिन आने का कितने दिन और इंतजार करे।

इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने क्या कुछ कहा, सुनिये लोकसभा में

जीने के लिए खूबसूरत वजह की तलाश कर, लेकिन इस सरकार पर विश्वास ना कर – दुष्यंत चौटाला

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *