सक्षम योजना में पढ़े लिखे युवाओं से उठवा रहे गोबर, वीडियो देखकर आप जाएंगे चौंक

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें रोजगार सरकार-प्रशासन हरियाणा
Devender Kumar, Yuva Haryana
Kosli, 20 June, 2018
प्रदेश में बेरोजगारों के लिए एक योजना को शुरू किया था जिका नारा था ‘शिक्षित युवा, सम्मानित हुआ’। इस योजना का नाम सरकार ने सक्षम योजना रखा था।  लेकिन प्रदेश के युवाओं के लिए सक्षम योजना एक मजाक बनकर रह गई है। इस योजना के तहत सरकार ग्रेजुएट व पोस्ट ग्रेजुएट बेरोजगार युवाओं से ऐसे काम करवा रही है जो शायद उनकी शिक्षा के लिहाज से कही भी उचित नहीं है।

ऐसा ही एक वीडियो सामने आया है जिसमें गांव का सरपंच युवाओं को गोबर उठाकर लाने के लिए कह रहा है, इतना ही नहीं सरपंच इन युवाओं के साथ बदसलूकी और धमकियां भी दे रहा है। आप खुद सुनिये इस सरपंच की सारी वीडियो

प्रदेश में हजारों बेरोजगारों ने इस स्कीम के तहत अपना पंजीकरण करवाया हुआ है। वही अगर बच्चे ऐसे काम नहीं करते है या पढ़े लिखे होकर वे ऐसा काम करना नहीं चाहते है तो उनको धमकाया जाता है कि अगर काम नहीं करोगे तो हटा दिया जाएगा। इस प्रकार की धमकी से तंग आकर प्रदेश भर से पंजीकरण कराने वाले 42523 में से 30378 सक्षम युवाओं ने काम ही छोड़ दिया।

सरकार युवाओं को इस योजना के तहत गोबर उठाने के लिए सक्षम बना रही है। लेकिन बेरोजगारी का आलम है कि वे युवा गोबर उठाने से भी मना नहीं कर पा रहे है और ऐसे अपमान के साथ गोबर उठाना पड़ रहा है।

आंकड़े बेहद चौंकाने वाले है कि सरकार की ओर से गोबर उठवाने, स्वच्छता के नाम पर कूड़ा उठवाने व युवाओं को एक जिले से दूसरे जिले में काम देने से परेशान होकर 30378 सक्षम युवा योजना छोड़कर चले गए। अब प्रदेश में महज 12145 सक्षम युवा ही योजना का मजबूरी में लाभ ले रहे हैं, क्योंकि उनके पास कोई रोजगार उपलब्ध नहीं है।

आंकड़ों के हिसाब से 71519 बेरोजगार ग्रेजुएट व पोस्ट ग्रेजुएट युवाओं ने सक्षम युवा योजना में पंजीकरण कराया हुआ है। जिनमें से 19913 युवाओं को फाइल में कमियां बता बाहर कर दिया तो 51606 फाइल सही पाए जाने के बाद 42523 युवाओं को मानदेय के लिए 100 घंटे के काम के लिए चुना गया।

बता दें कि यह योजना केवल हरियाणा में लागू है जिसके तहत उम्र 21-35 साल तक हो। इनकम 3 लाख से ज्यादा ना हो। सरकार उसे 100 घंटे काम देगी।
नाहड़ ब्लाक के 43 बेरोजगार लड़के और लड़कियां सक्षम योजना के तहत जैविक प्लांट बनाने में लगे हुए हैं। इन बेरोजगारों का आरोप है कि उनके साथ दुर्व्यहार किया जाता है। उनसे गोबर उठवाया जा रहा है। यहां पर सिर्फ दो लड़कियां, एक दिव्यांग और चार अन्य युवा ही काम कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *