हिंदू बच्चे को गोद लेने इटली से आया परिवार, स्थानीय लोगों ने स्वागत में पहनाई दंपत्ति को पगड़ी

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Darshan Kait,Yuva Haryana,  Kurukshetra

आज के समय में देश में धर्म और जाति के नाम पर लड़ाई झगड़ा कोई नई बात नहीं है। छोटे-मोटे धार्मिक मुद्दे और घिसी पिटी परंपराओं के नाम पर लोग जान लेने तक उतारू हो जाते हैं। ऐसे में इटली के रहने वाले एक परिवार ने ऐसी मिसाल पेश की है जिसे समाज में हमेशा एक उदाहरण के तौर पर याद किया जाएगा। इस परिवार ने ना सिर्फ एक हिंदू अनाथ बच्चे को गोद लिया है बल्कि समाज को एक मैसेज भी दिया। हरियाणा सरकार के तमाम उच्च अधिकारी धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में इसके गवाह और साक्षी बने। कार्यक्रम के शुरु होने से पहले इटली के दम्पति को हरियाणा की आन बान शान पगड़ी को भी पहनाया गया।

मंत्रौच्चारण के बीच संदीप को गोद लेने की रस्म को पूरा किया गया। अब इटली में संदीप का पालन पोषण होगा। हरियाणा पब्लिसिटी सेल के चेयरमैन रॉकी मितल ने कहा कि हरियाणा के बेटे संदीप का पालन पोषण अब इटली के दम्पति करेंगे। इस बच्चे को हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद की तरफ से इटली के दम्पति को गोद दिया गया है। इस बच्चे को गोद देने की कानूनी प्रक्रिया पंचकूला में पूरी की गई और ब्रह्मसरोवर के पावन तट पर मंत्रौच्चारण के बीच संदीप को गोद देने की पवित्र रस्म को पूरा किया गया। अहम पहलू यह है कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद की तरफ से 30 बच्चों को विदेशी दम्पतियों को गोद दिया जा चुका है।

चेयरमैन रॉकी मितल ने कहा कि हरियाणा राज्य बाल कल्याण परिषद के चेयरमैन राज्यपाल हैं और वाईस चेयरमैन हरियाणा के मुख्यमंत्री हैं। इस बाल कल्याण परिषद की तरफ से प्रदेश के पंचकूला, यमुना नगर, रेवाड़ी, रोहतक, गुरुग्राम, फरीदाबाद सहित 8 जगहों पर शिशु गृह स्थापित किए गए हैं। इस बाल कल्याण परिषद की तरफ से अब तक 535 बच्चों को गोद दिया जा चुका है, इनमें से 30 बच्चे विदेशी दम्पतियों को गोद दिए गए हैं। इसी कड़ी में इटली के दम्पति को करीब साढ़े 3 वर्षीय संदीप को गोद देने की प्रक्रिया को पंचकूला में पूरा कर लिया गया था और कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर गोद सेरमैनी के आयोजन हेतू चयन किया गया। इस पावन धरा कुरुक्षेत्र पर भगवान श्रीकृष्ण ने कर्म करने का संदेश दिया और इस पवित्र भूमि से संदीप और इटनी के दम्पति गीता का संदेश लेकर अपने वतन लोटे तथा यहां की यादे हमेशा उनके जहन में रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *