जाट आरक्षण को लेकर एक बार फिर इक्कठे हुए जाट, हिंसा के दौरान दर्ज किए गए मुकद्दमे रद्द करने की मांग

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Pradeep Dhankhar, Yuva Haryana

Bahadurgarh, 25 Dec, 2018

आरक्षण की मांग को लेकर जाटों ने एक बार फिर से सरकार को आंदोलन करने की चेतावनी दी है। महाराजा सूरजमल के बलिदान दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में एक बार फिर से जाट आरक्षण की मांग को लेकर विभिन्न संगठनों से जुड़े लोग इकट्ठे हुए।

बहादुरगढ़ की दीनबंधु छोटूराम धर्मशाला में दलाल खाप की अध्यक्षता में एक बैठक बुलाई गई। इस बैठक में रोहतक, झज्जर, सोनीपत, फरीदाबाद समेत छह जिलों के खाप प्रतिनिधि और जाट संगठनों से जुड़े बुद्धिजीवी शामिल हुए।

यहां उन्होंने महाराजा सूरजमल के बलिदान दिवस पर उन्हें श्रद्धांजलि दी और जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान मारे गए लोगों को भी याद किया। बैठक के बाद जाट नेताओं ने सरकार से जल्द से जल्द आरक्षण देने की मांग की। इसके साथ ही हिंसा के दौरान दर्ज किए गए मुकदमे रद्द करने की मांग भी सरकार से की गई है।

जाट नेताओं ने सरकार से अपना वादा निभाने के लिए एक वार्ता टेबल पर सभी मांगों पर चर्चा करने की मांग की है और मांगे नहीं मानने पर सरकार को आंदोलन करने की चेतावनी दी है। दरअसल, जाट समुदाय हरियाणा में पिछले काफी लंबे समय से नौकरियों में आरक्षण देने की मांग को लेकर आंदोलन करता रहा है। लेकिन सरकार बार बार आश्वासन देने के बाद भी उनकी मांगों पर कोई विचार नहीं कर रही। इसलिए अब एक बार फिर से जाटों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने की चेतावनी दी है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *