गुस्से और नाराजगी के साथ पूरी जिंदगी नहीं जी सकती – जेसिका लाल की बहन

Breaking चर्चा में दुनिया बड़ी ख़बरें शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Manu Mehta, Yuva Haryana

Gurugram, 23 April, 2018

बहुचर्चित जेसिका लाल हत्याकांड मामले में अब बहन सबरीना ने एक बड़ा बयान दिया है। सबरीना ने कहा है कि ये मेरे लिए मानसिक तौर पर भी अच्छा होगा की मनु शर्मा  जेल से बाहर आ जाए। उसके बाहर आने पर मुझे कोई परेशानी नहीं हैं। सबरीना ने कहा कि मैं गुस्से और नाराजगी के साथ पूरी जिंदगी नही जी सकती।

बता दें कि जेसिका लाल हत्याकांड मामले में दोषी मनु शर्मा की जमानत को लेकर तिहाड़ जेल प्रशासन से मृतक की बहन सबरीना को पत्र लिखा गया था, जिसके माध्यम से उन्हें विक्टिम कंपनसेशन फंड लेने की बात कही है और एक फॉर्म भी भेजा गया।

इस पत्र का जवाब देते हुए जेसिका लाल की बहन सबरीना ने जमानत पर अनापत्ति जताई है। इसके साथ ही फंड लेने से  भी  मना कर दिया है।

सबरीना ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि वो अतीत को भुलाकर आगे बढ़ना चाहती हैं।  अपनी बहन को न्याय दिलाने के लिए लड़ रही थी, इसमें देश की जनता ने उनका साथ दिया और उन्हें न्याय मिला। ये बात मायने नहीं रखती कि दोषी मनु शर्मा को अदालत ने कितनी सजा दी। दोषी को जेल में रहते हुए भी एक लंबा समय हो गया है।

अगर अदालत उसकी सजा कम करती है या जमानत देती है तो इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता है। मनु शर्मा का जेल में बहुत अच्छा बर्ताव रहा है, वे जेल में अच्छा काम करने के साथ लोगों की मदद भी करते हैं।

सबरीना ने नम आखो से कहा की  जेसिका की मौत को काफी लंबा अरसा हो गया। मैं अपने माता- पिता को भी खो चुकी हूं। अब अपने जीवन में आगे बढ़ना चाहती हूं। इन दुख भरी यादों का बोझ सारी जिंदगी नहीं उठा सकती, इसलिए जीवन के इस अध्याय को यहीं समाप्त करना चाहती हूं।

 

क्या था जेसिका मर्डर केस –

मॉडल जेसिका लाल को मनु शर्मा ने गोली मारकर उसकी हत्या कर दी थी। जेसिका ने मनु को शराब परोसने से इंकार कर दिया था। इस पर मनु आपा खो बैठा था। मनु हरियाणा के कांग्रेस नेता विनोद शर्मा का बेटा है।

इस मामले में निचली अदालत ने फरवरी 2006 में उसे बरी कर दिया था। इसके बाद देश भर में गुस्से की लहर फैल गई थी।

बाद में हाईकोर्ट ने संज्ञान लेते हुए केस की फिर से सुनवाई की और मनु शर्मा को हत्या का दोषी पाया। उसे दिल्ली हाईकोर्ट ने 2006 में आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *