गठबंधन ने जातीय समीकरण के साथ उतारे पढ़े-लिखे चेहरे, प्रमुख सियासी दलों में केवल जजपा-आप ने ही दिए वैश्य और मुस्लिम उम्मीदवार

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 23 April, 2019

हरियाणा में जनननायक जनता पार्टी (जेजेपी) और आम आदमी पार्टी (आप) गठबंधन ने लोकसभा चुनावों के लिए सभी 10 सीटों पर अपने चुनावी यौद्धा मैदान में उतार दिए हैं। गठबंधन ने जातीय और क्षेत्रीय समीकरण के हिसाब से पढ़े-लिखे चेहरों पर दाव लगाया है। समझौते के तहत जेजेपी सात और आप तीन सीटों पर चुनाव लड़ रही है।

इनेलो से अलग होने के बाद जेजेपी का गठन करने वाले हिसार से सांसद दुष्यंत सिंह चौटाला का यह पहला चुनाव होगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आप सुप्रीमों अरविन्द केजरीवाल के साथ दुष्यंत ने राजनीतिक समझौता किया हुआ है। प्रदेश में सोशल इंजीनियरिंग के फार्मूले पर काम कर रहे इन दोनों दलों ने अपने उम्मीदवारों के चयन में भी इसी तरह का संदेश दिया है।

सत्तारूढ़ भाजपा के अलावा कांग्रेस व इनेलो के मुकाबले जेजेपी-आप ही ऐसी पार्टियां हैं, जिन्होंने प्रदेश में वैश्य और मुस्लिम समाज से भी उम्मीदवार दिए हैं। गठबंधन के दस उम्मीदवारों में तीन जाट, दो ब्राह्मण, एक मुसलमान, एक वैश्य, एक यादव के अलावा अंबाला व सिरसा की रिजर्व सीट पर दो दलित चेहरे चुनावी मैदान में उतारे हैं।

हिसार से खुद दुष्यंत सिंह चौटाला चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि सोनीपत की सीट पर उन्होंने अपने छोटे भाई दिग्विजय सिंह चौटाला पर दाव लगाया है। यहां पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा चुनाव लड़ रहे हैं। मात्र 31 वर्षीय दुष्यंत पत्रकारिता में मास्टर के साथ-साथ एलएलबी-एलएलएम हैं। गुरुग्राम सीट पर मुस्लिम कार्ड खेलते हुये गठबंधन ने विदेशी कंपनियों में 42 वर्ष का अनुभव रखने वाले महमूद खान को चुनावी रण में उतारा है।

आईआईएम अहमदाबाद के अलावा एचएयू, हिसार से पढ़े-लिखे खान दुनिया की जानी-मानी कंपनियों में बतौर एडवाइजर काम कर चुके हैं। भिवानी-महेंद्रगढ़ सीट पर यादव तड़का लगाते हुए पार्टी ने अमेरिका में पढ़ी-लिखी 30 वर्षीया स्वाति यादव को चुनावी महाभारत में उतारा है। रोहतक की सीट पर गठबंधन ने छात्र नेता और इनसो के प्रदेशाध्यक्ष प्रदीप देसवाल को चुनाव लड़वाकर इस सीट के समीकरण बदल डाले हैं।

कुरुक्षेत्र की सीट पर ब्राह्मण कार्ड खेलते हुए गठबंधन ने इस इलाके के प्रमुख समाजसेवी और यूनिवर्सिटी के समय से ही छात्र राजनीति में सक्रिय रहे जयभगवान शर्मा उर्फ डीडी शर्मा पर दाव लगाया है। साधारण भूमिहीन परिवार से संबंध रखने वाले मजहमी सिख निर्मल सिंह मल्हड़ी को गठबंधन ने सिरसा की रिजर्व सीट पर उम्मीदवार बनाया है। केवल 37वर्षीय निर्मल सिंह 2014 में कालांवाली से विधानसभा चुनाव लड़ 16 हजार से अधिक वोट हासिल कर चुके हैं।

आप प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद को गठबंधन ने दिल्ली से सटे फरीदाबाद संसदीय क्षेत्र से चुनावी मैदान में उतारा है। मूल रूप से रोहतक के रहने वाले पंडित नवीन जयहिंद भी पत्रकारिता में मास्टर और पीएचडी होल्डर हैं। उन्होंने योगा में भी पीजी डिप्लोमा किया हुआ है। लगभग 37 वर्ष के युवा ब्राह्मण चेहरे पर दाव खेलकर गठबंधन ने फरीदाबाद की राजनीति में नया बदलाव लाने की कोशिश की है।

इसी तरह से हिमाचल प्रदेश में पुलिस की सबसे बड़ी कुर्सी यानी डीजीपी पद से रिटायर हुए मूल रूप से यमुनानगर के रहने वाले पृथ्वीराज को गठबंधन ने अंबाला संसदीय सीट से टिकट दिया है। वैश्य कार्ड खेलते हुए जेजेपी-आप गठबंधन ने करनाल की सीट पर एडवोकेट कृष्ण कुमार अग्रवाल को मैदान में उतारा है। अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के साथ-साथ अग्रवाल विभिन्न सामाजिक व धार्मिक संस्थाओं से भी जुड़े हुए हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *