Home Breaking अभय सिंह को बंदूक-गोली, जूते-चप्पल से मार पिटाई की बातों के सिवाय कुछ नहीं आता- दिग्विजय

अभय सिंह को बंदूक-गोली, जूते-चप्पल से मार पिटाई की बातों के सिवाय कुछ नहीं आता- दिग्विजय

0

Yuva Haryana

Chandigarh, 29 March, 2019

जननायक जनता पार्टी के युवा नेता दिग्विजय चौटाला ने इनेलो नेता अभय चौटाला के उस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है जिसमें अभय सिंह ने लोगों से कहा था कि जेजेपी के नेता आएं तो उन्हें चप्पल से पीटें। यहां जारी एक बयान में दिग्विजय चौटाला ने कहा कि अभय चौटाला ने हमेशा हिंसा और मार पिटाई की ही बातें की हैं, चाहे वो विधानसभा का पवित्र पटल हो या आम लोगों के बीच संवाद का कोई मंच।
उन्होंने कहा कि चप्पल के निशान का उपहास, निरादर और उससे मार पिटाई की बात दिखाती है अभय चौटाला हताश हैं और बौखलाए हुए हैं। दिग्विजय चौटाला ने कहा कि हम तो ना इनेलो का नाम लेते ना ये देखते कि उस दल के नेता क्या कर रहे हैं, लेकिन अभय चौटाला बार-बार खबरों में आने के लिए जेजेपी के बारे में अनाप-शनाप बोलते रहते हैं।
दिग्विजय ने फिर कहा कि चौधरी देवीलाल के परिवार ने चुनावी हार और राजनीतिक चुनौतियां बहुत देखी हैं लेकिन इस परिवार के लोग कभी मानसिक रूप से नहीं हारे। उन्होंने अफसोस जताते हुए कहा कि अभय चौटाला के बयान दिखाते हैं कि वे मानसिक रूप से भी हार चुके हैं। दिग्विजय ने कहा एक दिन पहले अभय सिंह नेता विपक्ष के पद से खुद इस्तीफा भेजने की बात कहते हैं और अगले दिन कहते हैं कि उन्हें उस पद से हटाए जाने के स्पीकर के फैसले के खिलाफ हाइकोर्ट में जाएंगे। इससे साबित होता है कि वे अपनी राजनीतिक दिशा खो चुके हैं।
दिग्विजय चौटाला ने कहा कि उनकी पार्टी बिना किसी फालतू बहस में पड़े सिर्फ लोगों के बीच जाकर अपने लिए समर्थन मांग रही है। उन्होंने कहा कि चुनाव निशान चप्पलें उनके लिए गरीबों और किसानों का साधन हैं, सफाई और सुरक्षित सफर के लिए उनका हथियार हैं। जेजेपी तो इस निशान को ताऊ देवीलाल के खड़ाऊ मानकर अपनी मंजिल तक का सफर करना चाहती है। उन्होंने कहा कि जो लोग चुनाव निशान पर ऊलजुलूल बातें कर रहे हैं, उनके पास जेजेपी और इसके नेताओं के बारे में कुछ भी आलोचना करने लायक नहीं है। उन्होंने कहा कि हरियाणा के लोग सब देख रहे हैं और सबको उनके कर्मों के हिसाब से जवाब दे देंगे।
Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

सरकारी स्कूलों में कार्यरत 1983 पीटीआई को राहत, फिलहाल बने रहेंगे पद पर

Yuva Haryana, Chandigarh स्कूल शिक्षा विभाग 1983 पीटीआई हटाने के आदेशों पर मौखिक रूप से रो…