जल्द लोकसभा प्रत्याशियों के नामों का ऐलान करेगी जेजेपी, कमेटी लेगी फैसला

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

दिल्ली मार्ग पर स्थित सब्जी मंडी में जननायक जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की बैठक में सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जजपा का संगठन आज इतना मजबूत हो चुका है। भाजपा व कांग्रेस को लोकसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ेगा।
कांग्रेस व भाजपा जैसे दलों से जनता का मोह भंग होने लगा है। बीते चार माह में पार्टी के कर्मठ कार्यकर्ताओं ने पार्टी का मजबूत संगठन खड़ा कर लिया है कि दूसरी राजनैतिक पार्टियों के नेताओं में बौखलाहट छाई हुई है। आज जजप एक मजबूत विपक्षी दल के रूप में भाजपा के समक्ष खड़ी है।
जजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जजपा का कार्यकर्ता संगठित रहा तो इस सोनीपत लोकसभा क्षेत्र से खुद पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा भी टिक नहीं पाएगा। उन्होंने जजपा को मिले चप्पल के चुनावी निशान पर कहा कि यह संघर्ष का प्रतीक है। जो चौ. देवीलाल की खडाऊ हैं। शहीदी दिवस पर अपने भाषण में सर की उपाधि पर कि गई टिप्पणी पर विपक्षी पार्टियों के सवालों पर उन्होंने कहा कि उनकी बात को तोड़ मरोड़ कर किसानों के मसीहा चौ. छोटूराम पर केन्द्रित की जा रही है। जबकि सभी जानते हैं कि भगत सिंह जैसे शहीदों के खिलाफ गवाही देने वाले कौन थे ? व उन्हें अंग्रेजों ने क्या दिया था। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि भाजपा के मेक इन इंडिया ने कुछ नहीं किया युवाओं की स्थिति और बदत्तर हुई। प्रदेश में भाजपा ने 37 हजार नौकरी दी लेकिन इन चार वर्षों में 25 हजार कर्मचारी सेवानिवृत्त भी हुए हैं। अकेले गुरुग्राम में 17 लाख रोजगार हैं, जबकि इनमें प्रदेश से सिर्फ ढाई लाख लोगों को रोजगार दिया गया है, यह नीति युवा हितैषी नहीं है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार आते ही प्रदेश की हर फैक्टरी में 75वां हिस्सा प्रदेश की जनता का होगा।

इस दौरान दुष्यंत चौटाला ने कहा कि उनकी तीन सदस्यी कमेटी जल्द ही प्रदेश की 10 सीटों पर प्रत्याशी घोषित करेगी। उन्होंने कहा कि शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव जैसे भारत माता के सच्चे सपूत, जोकि शहीद है उन्हें सरकारी रिकार्ड में गद्दार बताया गया है, ऐसे सरकार रिकार्ड को बदलने का समय आ गया है, वह खुद प्रधानमंत्री से मिलकर इस बारे में मांग कर चुके हैं। जिस तरह से भूपेंद्र हुड्‌डा की सरकार में अपने चहेतों को नौकरियां बांटी जाती थी, हैरानी कि बात है कि भाजपा में भी वैसा ही हो रहा है। खेलों में पदक लेकर आए हुए खिलाड़ियों को नौकरी पाने के लिए न्यायालय का सहारा लेना पड़ रहा है। इस मौके पर पदम दहिया ने भी सम्बोधित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *