भाजपा सरकार के खिलाफ जजपा का प्रदेशव्यापी हल्ला बोल शुरू, जगह-जगह विरोध प्रदर्शन

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 15 July, 2019

जन विरोधी भाजपा सरकार के खिलाफ जननायक जनता पार्टी ने मोर्चा खोलते हुए प्रदेशवासियों की जन समस्याओं को लेकर हल्ला बोल दिया है। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के नेतृत्व में जजपा कार्यकर्ताओं ने आज दादरी, पानीपत और अंबाला जिले में भाजपा सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी करते हुए रोष प्रदर्शन किया और उसके बाद बरोजगारी, अपराध, एसवाईएल समेत कई जन समस्याओं को लेकर प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। वहीं इस दौरान पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने रोजगार, कानून व्यवस्था, स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा, कृषि, व्यापार समेत तमाम क्षेत्रों में भाजपा सरकार की पोल खोलते हुए उसे जन विरोधी सरकार बताया।

दादरी में प्रदेशाध्यक्ष सरदार निशान सिंह के नेतृत्व में प्रदर्शन

दादरी में जननायक जनता पार्टी ने प्रदेशाध्यक्ष सरदार निशान सिंह के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन किया। शहर में विरोध प्रदर्शन के बाद जिला उपायुक्त को महामहिम राज्यपाल व प्रदेश सरकार के नाम ज्ञापन सौंपा।

सोमवार सुबह दादरी में सैंकड़ों जेजेपी कार्यकर्ता रोज गार्डन में एकत्रित हुए। रोज गार्डन में आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए जेजेपी प्रदेशाध्यक्ष सरदार निशान सिंह ने कहा कि आज प्रदेश की कानून व्यवस्था पर बुरा हाल है। दिन दहाड़े हत्या, लूट, चोरी व महिला अपराध घटित हो रहे हैं। अपराधियों को राजनैतिक संरक्षण मिलने के कारण उनका हौसला बढ़ता जा रहा है। हजारों युवाओं को रोजगार देने का दम भरने वाली भाजपा सरकार में बेरोजगारी अपने चरम पर है।

सरदार निशान सिंह ने कहा कि सरकार ने दादरी को जिला बनाकर केवल खानापूर्ति की है। यहां जिला स्तर की कोई सुविधा लोगों को प्रदान नहीं की गई। उन्होंने कहा कि जिले बनने के बाद तेजी से विकास कार्य होने थे, मगर सरकार की पनाह में आज रोजाना यहां हजारों ओवरलोड वाहनों के जरिए लाखों रूपयों का घोटाला हो रहा है। निशान सिंह ने कृषि मंत्री द्वारा ओवरलोड वहानों की सीबीआई जांच करवाने की मांग पर उनसे सवाल करते हुए पूछा कि क्या मंत्री जी एक बार मुद्दा बनाकर भूल गए या वाक्ये में ही मामले की जांच करवाने की हिम्मत रखते है।

उन्होंने कहा कि आज किसानों को न पर्याप्त सिंचाई के लिए पानी मिल रहा और न ही बिजली दी जा रही। शहर व गांव के लोग मूलभूत सुविधाओं को तरस रहे हैं। बड़ शर्म की बात है कि सरकार जनता को पीने का पानी भी उपलब्ध नहीं करवा पा रही। लोगों को टैंकरों से पानी खरीदकर अपनी प्यास बुझानी पड़ रही है। निशान सिंह ने कहा कि आज कई महिनों से दादरी में किसान मुआवजे की मांग को लेकर धरने पर बैठे लेकिन किसान विरोधी सरकार को उनकी कोई चिंता नहीं है।

उन्होंने कहा कि असियत तो ये है कि सरकार की नाकामी के चलते अधिकारी भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे हैं, दादरी में ओवरलोड वाहनों से रिश्वत के तौर पर करोड़ों रुपयों का खेल उजागर हुआ है। प्रदेश सरकार दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करने की बजाए उनका तबादला कर बचाने में जुटी है। जब सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी आवाज उठाते हैं तो सरकार लाठी, डंडों को भय दिखाकर दबाने का प्रयास कर रही है। बैठक के बाद शहर में विरोध प्रदर्शन कर उपायुक्त को ज्ञापन सौंपा गया।

इस अवसर जिला प्रधान नरेश द्वारका, विधायक राजदीप फौगाट, विधायक पृथ्वी नंबरदार, संजीव मंदौला, उमेद पातुवास, ओमपाल चौबारला, डा. विजय मंदौला, कुलदीप चरखी, मनफूल शर्मा, राजेश फौगाट, रामनिवास मिर्च, लक्ष्मी बलौदा, ऋषिपाल उमरवास, रिसाल सिंह धनासरी, डा. सुरेंद्र डाला, राजेश अटेला, एडवोकेट राकेश कलकल, रविंद्र सांगवान, अमरजीत सोनी, प्यारेलाल लांबा, सुरेश इमलोटा, राजेश सांगवान, सुबेदार जयबीर, भूपेंद्र बौंद, आशीष निमड़ी, योगेश इमलोटा, इश्वर सिंह, अशोक सिहाग, धर्मेंद्र , सुरेंद्र इत्यादि उपस्थित थे।

पानीपत में राष्ट्रीय प्रधान महासचिव डॉ. केसी बांगड़ ने डीसी को सौंपा ज्ञापन

पानीपत जिले में जेजेपी के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव डॉ. केसी बांगड़ के नेतृत्व में सैंकेड़ों कार्यकर्ताओं ने  प्रदर्शन के बाद जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान डॉ. केसी. बांगड़ ने बताया कि यह प्रदर्शन सभी जिले मुख्याल्यों पर सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ,  महिलाओं को सुरक्षा देने में नाकाम रहने के खिलाफ,  युवाओं को रोजगार ना दे पाने के खिलाफ व प्रदेश में प्रतिदिन बिगड़ती हुई कानून व्यवस्था और डीजल व पैट्रोल के दामों में भारी वृद्धि के खिलाफ रोष जाहिर किया है।

उन्होंने कहा कि आज प्रदेश में कानून तंत्र पूर्ण रूप से फेल हो चुका है। यहां पर महिलाएं, व्यापारी व आम-जन कोई सुरक्षित नहीं है। डॉ. बांगड़ ने कहा कि यह सरकार मात्र झूठे वायदे करके सत्ता हथियाने का काम करती है और उसके बाद जनता को बदहाल जीवन जीने के लिए मजबूर कर देती है, जिसका जेजेपी विरोध करती है और