जेजेपी ने रोडवेज बेड़े में घट रही बसों की संख्या का उठाया मुद्दा, जल्द बसें बढ़ाने की मांग

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Chandigarh, 25 June, 2019

जननायक जनता पार्टी ने प्रदेश में रोडवेज बसों की भारी कमी सहित परिवहन विभाग से जुड़े कई मुद्दे उठाए है। जेजेपी ने रोडवेज यूनियन नेताओं की मांगों का समर्थन करते हुए सरकार से जल्द से जल्द प्रदेश के लोगों की जरूरत के अनुसार रोडवेज बेड़े में बसों की संख्या बढ़ाने की मांग की है। इसके अलावा पार्टी ने प्रदेश के परिवहन मंत्री से एक दिन अपनी सरकारी गाड़ी छोड़कर सामान्य बस अड्डों पर आकर वहां मुसाफिरों, रोडवेज कर्मियों की समस्याओं, बस सेवाओं की हालात जानने का आग्रह किया है ताकि उन्हें अपने विभाग की जमीनी हकीकत की वास्तविक जानकारी मिल सके।

जेजेपी कर्मचारी प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष संजीव मंदौला ने मंगलवार को यहां कहा कि एक तरफ तो भाजपा सरकार सार्वजनिक परिवहन, बस सुविधाओं, यात्रियों को राहत देने के लंबे चौड़े दावे कर रही वहीं धरातल पर स्थिति कुछ ओर ही दिखाई दे रही है जिसको लेकर पिछले दिनों रोडवेज कर्मचारी संगठनों के अलावा जननायक जनता पार्टी हर मंच पर आवाज उठाती रही है लेकिन प्रदेश सरकार इस मामले में पूरी तरह उदासीनता बरत रही है।

संजीव मंदौला ने बताया कि प्रदेश में बसों का बेड़ा कम होने के कारण रोजाना करीब 200 रूट छूट रहे है, जिससे आम जन को सरकारी बस की सुविधा लेने में भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सत्ता के अहंकार में डूबी भाजपा सरकार को आमजन के साथ-साथ रोडवेज कर्मचारियों की परेशानियों से कोई सरोकार नहीं रहा है।

उन्होंने भाजपा सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि प्रदेश में ऐसी पहली सरकार होगी जिसके साढ़े चार साल के राज में रोडवेज बसों की संख्या बढ़ने की बजाय घट रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जब भाजपा की सरकार आई थी तो करीब 4200 बसें रोडवेज के बेड़े में शामिल थी लेकिन जो सरकार की सार्वजनिक क्षेत्र के प्रति उपेक्षित नीति के चलते घटकर 3000 रह गई है।

संजीव मंदौला ने बताया कि इतना ही नहीं यात्रियों को प्रदेश की राजधानी चंडीगढ़ से भी रोडवेज बसों की सुविधा लेने में भारी दिक्कतें आ रही है। उन्होंने हैरानी जताते हुए कहा कि अगर प्रदेश की राजधानी में रोडवेज बस सुविधा का ये हाल है तो ऐसे में कस्बों और गांवों में क्या हाल होगा इसका अनुमान सहज ही लगाया जा सकता है। अच्छा रहे एक दिन नींद से जागकर प्रदेश के परिवहन मंत्री बस अड्डो, मुसाफिरों, कर्मचारियों की हालत से रूबरू हो।

जेजेपी कर्मचारी प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष मंदौला ने सरकार से बसों की संख्या जल्द बढ़ाने की मांग करते हुए कहा कि निजीकरण नीतियों के जरिए रोडवेज को सुनियोजित तरीके से खत्म करने के खिलाफ उनकी पार्टी प्रदेश की जनता, कर्मचारियों को साथ लेकर व्यापक स्तर पर विरोध करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *