जज के पत्नी और बेटे पर गोलीकांड मामले में पुलिस का बयान, आरोपी ने गुस्से में दिया वारदात को अंजाम

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष
Manu Mehta, Yuva Haryana
Gurugram, 17 Oct, 2018
दिल्ली से सटे साईबर सिटी गुरुग्राम में चार दिन पहले जज के परिवार पर गनमैन द्वारा किए गए कातिलाना हमले के मामले में गुरुग्राम पुलिस आज मीडिया के सामने आई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके हत्या की असल वजह बताई । पुलिस का दावा है कि आरोपी गनमैन महिपाल ने मार्केट में जज के बेटे ध्रुव के साथ हुए मामूली बहस के बाद जज के बेटे और पत्नि को गोली मार दी । लेकिन पुलिस की ये थ्योरी किसी के गले से नीचे नहीं उतर रही ।
देश की राजधानी के पास साईबर सिटी गुरुग्राम में शनिवार को एडिशनल सेशन जज की पत्नि की हत्या और बेटे पर हत्या के प्रयास से किए हमले की असल सच्चाई जानने के लिए पूरे देश की नजर बनी हुई है इसीलिए आज गुरुग्राम पुलिस मीडिया के सामने आई और एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमें पुलिस ने दावा किया कि घटना वाले दिन जज का परिवार महिपाल को लेकर गुरुग्राम के सेक्टर 49 मार्केट में गए थे लेकिन जब जज की पत्नि और बेटा जब गाड़ी के पास वापस आए तो वहां पर महिपाल नहीं था , जब कुछ देर बाद महिपाल गाडी के पास आया तो जज की पत्नि रितु और बेटे ध्रुव ने महिपाल को डांटा कि वो कार को छोड़कर कहां चला गया, अपनी ड्यूटी ठीक ढंग से क्यों नहीं कर रहा । इसी बहस में जब जज के बेटे ध्रुव ने महिपाल से गाड़ी की चाबी मांगी तो महिपाल बहस करने लगा और इसी बहस के चलते महिपाल ने ध्रुव को गोली मार दी, जब महिपाल को रोकने के लिए जज की पत्नि रितु आई तो उसने उनको भी गोली मार दी ।
पुलिस का दावा है कि महिपाल को वारदात के डेढ घंटे के अंदर ही ग्वालपहाड़ी इलाके से गिरफ्तार कर लिया गया और उसने तुरंत अपना जुर्म भी कुबूल कर लिया । पुलिस ने ये भी दावा किया कि महिपाल ये हत्या गुस्से में आकर की इसके लिए उसने कोई साजिश नहीं की । जब पुलिस से पूछा गया कि क्या जज का परिवार महिपाल को परेशान करता था जिससे वो गुस्से में भरा हुआ था तो पुलिस ने कहा कि महिपाल ने पूछताछ में खुद कहा कि जज का परिवार उन्हें परेशान नहीं करता था जबकि वो तो बहुत अच्छे हैं ।
पुलिस ने आज उन अफवाहों पर भी विराम लगा दिया जिसमें कहा जा रहा था कि महिपाल ने धर्म परिवर्तन कर लिया था और वो जज के परिवार पर भी धर्म परिवर्तन करने का दबाव बना रहा था । पुलिस का दावा है कि पुलिस को ऐसा कोई आधिकारिक रिकॉर्ड नहीं मिला है जिससे ये पुष्टि हो सके कि महिपाल ने धर्म परिवर्तन किया है । गोली मारने के बाद जब महिपाल जज के बेटे ध्रुव को कार में डाल रहा था तो उस सवाल पर पुलिस ने दावा किया कि महिपाल सुबूत मिटाना चाहता था इसीलिए वो घायलों को गाड़ी में डालने की कोशिश करने लगा लेकिन वो भीड़ को वहां देखते हुए ऐसा नहीं कर पाया ।
गुरुग्राम पुलिस की ये थ्योरी किसी के गले नहीं उतर रही है क्योंकि जिस दिन महिपाल को गिरफ्तार किया गया उस दिन पुलिस की थ्योरी सामने आई थी कि महिपाल ने दावा किया है कि उसे जज का परिवार परेशान करता था इसीलिए उसने उनको मार दिया और अब पुलिस दावा कर रही है कि उसने गुस्से में ऐसा किया, पुलिस ने उसके शॉर्ट टेम्पर्ड होने का भी दावा किया है । पुलिस ने ये भी कहा कि वो इस केस को मजबूत बनाएगी और कोर्ट में जज के सामने भी गुजारिश करेगी कि महिपाल को सख्त से सख्त सजा सुनाई जाए ।
सवाल ये उठता है कि अगर किसी गनमैन को उसकी गलती पर डांट लगाई जाए क्या वो किसी का मर्डर कर देगा, और वो भी उसका जिनकी सुरक्षा का जिम्मा खुद उसके सिर है । ऐसे में सवाल गुरुग्राम पुलिस की कार्यशैली पर उठ रहे हैं जिसमें वो अब तक तो मीडिया से इसलिए बच रही थी कि महिपाल हत्या का कोई ठोस कारण नहीं बता रहा तो फिर पुलिस ने महिपाल के इस दावे को ठोस कैसे मान लिया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *