कैलाश मानसरोवर की यात्रा में कई दिन फंसी रही IAS रेणू फुलिया, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की मदद से लौटी सुरक्षित

Breaking अनहोनी बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा

Yuva Haryana

Chandigarh

नेपाल में कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर गई हरियाणा की IAS अधिकारी रेनू फुलिया अचानक मौसम खराब होने से वहां फंस गई थी जिसके बाद उनको रेसक्यू किया था। वे कई दिन खराब मौसम में फंसे रहने के बाद आखिरकार अपने घर वापिस लौटी। IAS रेणु फुलिया ने सफर के दौरान आई मुश्किलों और खराब मौसम के चलते 4 दिन तक फंसे होने की कहानी अपनी जुबानी सुनाई।

कैलाश मानसरोवर की यात्रा में गए श्रद्धालुओं को कई दिन तक खराब मौसम के कारण फंसे रहना पड़ा और उस दौरान उन्हें कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ा।रेणु फुलिया ने खास बातचीत में कहा कि जब वे कैलाश मानसरोवर के दर्शन के बाद वापस आने लगे तो मौसम इतना खराब हो गया कि कोई भी साधन वापसी के लिए उन्हें नहीं मिला। उन्होंने बताया कि उनके साथ देश के अलग-अलग राज्यों व विदेशों से आए हुए श्रद्धालु भी करीब 4 दिनों तक खराब मौसम की मार झेलते रहे।

IAS रेणु ने बताया कि इस दौरान उनके ग्रुप में गए हुए कई लोग बीमार भी हुए। जिस जगह पर वे सभी फंसे हुए थे, वहां रहने के लिए छोटे-छोटे कमरे थे और एक बिस्तर पर ही कई लोगों ने सो कर अपना वक्त काटा। उन्होंने बताया कि 4 दिन फंसे रहने के दौरान उन्हें खाने की तो कोई मुश्किल नहीं आई। वहां सार्वजनिक शौचालय और आम कमरे थे और सभी ने एडजस्ट किया। उनके साथ 51 लोग गए थे और सबकी ख़ुशी ओर मुश्किल एक थी। जब 4 दिन तक फंसे रहे तो उन्हें यह लगता था कि घर कैसे वापिस जायेगे। जिस जगह पर वह थे वहां पर करीब 600-700 लोग फंसे हुए थे।

उन्होंने बताया कि इन 4 दिनों में स्थानीय लोगो का पूरा सहयोग मिला, लेकिन इस दौरान लोगो को सांस लेने में मुश्किल आ रही थी और लोगों के नाक से खून निकलने लगा था। उन्होंने बताया कि उनके साथ मेडिकल टीम भी थी जो समय समय पर दवाईया देते रहे। उन्होंने बताया कि 2 बेड पर 4 लोग सोये ओर कई लोगों को नीचे भी सोना पड़ा। बाद में उन्होंने अपने उच्च अधिकारियों के साथ संपर्क किया और भारतीय दूतावास से बातचीत कर उन्हें वहां से निकालने के लिए प्रयास किया गया ।

उन्होंने बताया कि मुख्य सचिव डीएस ढेसी ने उनको निकालने के लिए नेपाल में भारतीय दूतावास से संपर्क किया और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निर्देश के बाद हरियाणा आईएएस अधिकारी रेणु फुलिया अपने घर वापिस लौट पाई।

 

उन्होंने हरियाणा के एडिशनल चीफ सेक्टरी पीके महापात्रा से सम्पर्क किया जिसके बाद हरियाणा के चीफ सेक्रेटरी ने भारतीय दूतावास से बात की। उन्होंने बताया कि सभी 4 दिनों तक सिमिकोट में फंसे रहे। IAS का कहना है कि वे हरियाणा सरकार ,चीफ सेक्टरी ,अडिशनल चीफ सेक्टरी के प्रयास के चलते आज वह  वापिस आ पाए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *