करनाल लोकसभा से इस बार आगे आ रही महिलाएं, टिकट की बढ़ रही मांग

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति हरियाणा हरियाणा विशेष
Kamarjeet Virk, Yuva Haryana
Karnal, 18 March, 2019
हरियाणा में नारी सशक्तिकरण के दावों के बीच लोकसभा चुनावों का इतिहास करारा झटका देने वाला है देश की सबसे बड़ी पंचायत कही जाने वाली संसद में महिलाओं को भेजने के लिए ना तो सियासी दलों ने कोई खास तवज्जो दी और ना ही मतदाताओं ने दरियादिली दिखाई । पिछले 40 वर्षों में केवल पांच महिलाएं ही लोकसभा चुनाव की वैतरणी पार कर पाई है वह भी परिवारिक सियासी रसूख और राष्ट्रीय दलों के टिकट के बल पर । निर्दलीय कोई महिला आज तक हरियाणा से संसद का मुंह नहीं देख पाई ।
 
कांग्रेस की चंद्रावती, कुमारी शैलजा और श्रुति चौधरी व भाजपा की सुधा यादव और इनेलो की कैलाशो सैनी ही हरियाणा गठन के बाद इस दौरान लोकसभा में पहुंच पाई । प्रदेश से पहली महिला सांसद बनने का गौरव जनता पार्टी की चंद्रावती के नाम है जिन्होंने वर्ष 1977 में आपातकाल के हीरो स्वर्गीय चौधरी बंसीलाल को हराया था इस दौरान प्रदेश से चुने गए 151 सांसदों में जब यह पंजाब का हिस्सा था तब से महिलाओं को केवल 8 बार ही चुना गया ।
 
करनाल रोहतक हिसार फरीदाबाद गुरूग्राम और सोनीपत ने आज तक एक बार भी किसी महिला को संसद में नहीं भेजा है सबसे ज्यादा चार बार कांग्रेस की कुमारी शैलजा संसद पहुंची । नेशनल लोकदल के टिकट पर कैलाशो सैनी दो बार कुरुक्षेत्र से जीती तो पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल की पुत्री श्रुति चौधरी भिवानी महेंद्रगढ़ और भाजपा की सुधा यादव महेंद्रगढ़ से एक एक बार लोकसभा पहुंचने में सफल रही ।
 
करनाल में कुल 10 लाख 47 हजार 522 वोटर है। जिनमें महिला वोटरों की संख्या अब इस बार देखना यह है कि करनाल लोकसभा सीट से कई लोगो ने अपनी दावेदारी पेश की है जिसमे अगर हम बात करे तो तीन महिलाए भी शामिल है। पीलीभीत से सासंद मेनका गांधी, करनाल से सांसद अश्वनी चोपड़ा की धर्म पत्नी समाजसेवी किरण चोपड़ा व पानीपत जाने माने उधोगपति अजय पालीवाल की धर्मपत्नी विजय लक्ष्मी पालीवाल ने करनाल लोकसभा से बीजेपी की टिकट पर चुनाव लड़ने की अपनी इच्छा जताई है । उधर करनाल से कांग्रेस पार्टी की तरफ से दो बार सांसद रह चुके डॉ अरविंद शर्मा भी बीजेपी में शामिल हो गए है जिनकी करनाल सीट से भी टिकट मिलना सम्भावित माना जा रहा है । अब देखना यह है कि सरकार अपने सशक्तिकरण के नारे को कितना बुलंद करती है और राजनीति में अपनी इच्छा जाहिर करने वाली नारियों को सम्मान देते हुए उन चुनाव लड़ने के लिए टिकट देती है या नहीं । मेनका गांधी, किरण चोपड़ा और विजय लक्ष्मी पालीवाल की सम्भावित दावेदारी की अटकलों के बीच यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या करनाल के मतदाता परम्परा को तोडकर एक महिला को करनाल से विजयी बनायेंगे। यहाँ से पहले बीजेपी की टिकट पर सुषमा स्वराज ने दो बार चुनाव लड़ा परन्तु उन्हें हार का सामना करना पड़ा ।
 
करनाल में कामकाजी महिलाओं व वरिष्ठ लोगों का मानना है कि सरकार द्वारा महिलाओं की सशक्तिकरण को लेकर काफी काम किए गए हैं लेकिन अगर बात की जाए राजनीति की तो अभी तक महिलाओं की भागीदारी बहुत ही कम आंकी गई है ।

करनाल लोस में पिछले चुनाव से इस बार 1 लाख 66 हजार 495 वोटर बढ़े

करनाल लोकसभा में इस बार एक लाख 66 हजार 495 वोटर बढ़ गए हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में 16 लाख 84 हजार 321 वोटर थे, लेकिन इस बार 18 लाख 50 हजार 816 वोटर हैं। करनाल और पानीपत में 15 से 16 हजार वोटर बढ़ सकते हैं। करनाल लोस क्षेत्र में करनाल जिला के 5 और पानीपत के 4 विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। इस प्रकार करनाल लोकसभा क्षेत्र में 18 लाख 50 हजार 816 मतदाता हैं। करनाल जिले में 10 लाख 47 हजार 522 व पानीपत जिले में 8 लाख 4 हजार 734 मतदाता हैं। करनाल और पानीपत में 15 से 16 हजार मतदाता बढ़ सकते हैं।
 
विधानसभा क्षेत्र (आरक्षित): नीलोखेड़ी 

कुल मतदाता                  –    285000
पुरुष मतदाता                 –    107756

महिला मतदाता               –    95329

विधानसभा क्षेत्र : इंद्री 

कुल मतदाता                    –  190400

पुरुष मतदाता                   –  101044

महिला मतदाता                –   89356

विधानसभा क्षेत्र : करनाल 

कुल मतदाता                     –   228457

पुरुष मतदाता                    –   119088

महिला मतदाता                  –   109369

विधानसभा क्षेत्र : घरौंडा 

कुल मतदाता                       –   207941

पुरुष मतदाता                      –   111105

महिला मतदाता                    –   96836

विधानसभा क्षेत्र : असंध 

कुल मतदाता                        –   217639

पुरुष मतदाता                       –  117136

महिला मतदाता                    –   100503

 

विधानसभा क्षेत्र : पानीपत ग्रामीण 

कुल मतदाता                        –   226835

पुरुष मतदाता                       –   123537

महिला मतदाता                     –   103308

विधानसभा क्षेत्र : पानीपत शहरी 

कुल मतदाता                         –   205060

पुरुष मतदाता                        –   109900

महिला मतदाता                      –   95160

विधानसभा क्षेत्र (आरक्षित) : इसराना 

कुल मतदाता                          –   169812

पुरुष मतदाता                         –    91449

महिला मतदाता                       –   78363

विधानसभा क्षेत्र : समालखा 

कुल मतदाता                           –   201587

पुरुष मतदाता                          –   108876

महिला मतदाता                        –   92711


लोकसभा सीट पर बाहरी प्रत्याशियों का रहा है दबदबा : करनाल लोकसभा में शुरू से ही बाहरी प्रत्याशियों का दबदबा रहा है। ज्यादातर बाहर के लोग ही यहां से सांसद बने हैं। इस बार भी बाहरी प्रत्याशी टिकट मांग रहे हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *