पूर्व कृषि मंत्री सुरेंद्र सिंह की 13वीं पुण्यतिथि पर अर्पित की गई श्रद्धांजलि, पत्नी किरण चौधरी ने किया याद

Breaking अनहोनी कला-संस्कृति चर्चा में बड़ी ख़बरें राजनीति शख्सियत सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Jagbir Ghangash, Yuva Haryana

Bhiwani, 31 March, 2018

भिवानी में चौधरी बंसीलाल के छोटे बेटे और पूर्व कृषि मंत्री स्वर्गीय चौधरी सुरेंद्र सिंह को उनकी 13वीं पुण्यतिथि पर याद किया गया।

सीएलपी लीडर किरण चौधरी ने समर्थकों संग अपने पति को श्रद्धांजलि अर्पित की।

किरण चौधरी ने कहा कि सुरेन्द्र सिंह ने बंसीलाल के सारथी के तौर पर काम किया और आधुनिक हरियाणा के विकास में सुरेन्द्र की 50 फिसदी हिस्सेदारी है।

किरण ने अपने पति सुरेन्द्र सिंह को याद करते हुए बताया कि चौधरी बंसीलाल धन्य थे, जिन्हें सुरेन्द्र सिंह के रूप में संघर्षिल और मेहनती बेटा मिला था।

सुरेन्द्र किसानों और युवाओं के लिए एक प्रेरणा थे। वो आज जिंदा होते तो किसानों और युवाओं की हालत देख कर बहुत दुखी होते।

किरण चौधरी ने कहा कि सुरेन्द्र सिंह बेदाग छवी के नेता थे, जो आज के जमाने में नहीं मिलते। उन्होने कहा कि आज के नेताओं को सुरेन्द्र सिंह की बेदाग छवी, संघर्ष और मेहनत से प्रेरणा लेनी चाहिए।

सांसद में महिला आरक्षण बिल पर हुई बहस और पार्टी नेताओं के बीच तनातनी का जीक्र करते हुए किरण ने बताया कि जब भी सांसद या विधानसभा में नेताओं के बीच गरमा- गरमी होती थी, तो सुरेन्द्र सिंह उठ कर सभी को हंसा कर सभी का गुस्सा और तनाव दूर कर देते थे।

यहां तक की अटल बिहारी भी संसद में माहौल गर्म होने पर सुरेन्द्र के बोलने का इंतजार करते थे।

बता दें कि सुरेन्द्र सिंह का जन्म 15 नवंबर 1946 को भिवानी जिला के गोलागढ गांव में हुआ था।

वे 1977 में पहली बार विधायक बने थे। इसके बाद वो कई बार विधायक बनने के साथ राज्यसभा और लोकसभा के सदस्य भी रहे।

सुरेंद्र सिंह को एक हंसमुख नेता के रूप में विपक्षी भी याद रखते हैं।

सुरेंद्र सिंह साल 2005 में 59 वर्ष के हो चुके थे और हरियाणा के कृषि मंत्री थे, तो बिजली मंत्री ओपी जिन्दल के साथ हैलिकॉप्टर क्रैश होने पर उनका दैहांत हो गया था।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *