Home Breaking पंचकूला और मुलाना के अस्पताल को कोविड-19 अस्पताल बनाने पर विचार कर रही सरकार

पंचकूला और मुलाना के अस्पताल को कोविड-19 अस्पताल बनाने पर विचार कर रही सरकार

0
0Shares

Yuva Haryana, Chandigarh

हरियाणा की मुख्य सचिव श्रीमती केशनी आनंद अरोडा ने आज राज्य के जिला उपायुक्तों को निर्देश देते हुए कहा कि वे अपने-अपने जिले में कोविड-19 के प्रकोप को रोकने के लिए माईक्रो स्तर पर योजनाएं तैयार कर क्रियान्वित करें, ताकि हर स्तर पर इस बीमारी के फैलाव को रोका जा सकें। इसके अलावा, श्वसन संबंधी रोगियों की विशेष देखभाल की जाए और उन्हें यदि दिक्कत है तो अस्पताल में भर्ती करवा कर उनका उपचार सुनिश्चित किया जाए। मुख्य सचिव ने यह निर्देश आज यहां पर वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिला उपायुक्तों सहित कोविड-19 के लिए नियुक्त किए गए नोडल अधिकारियों की संकट समन्वय समिति की बैठक में दिए।

उन्होंने कहा कि राज्य की दो सरकारी परीक्षण प्रयोगशालाओं के अलावा गुरूग्राम की पांच अन्य निजी परीक्षण प्रयोगशालाओं को भी अधिकृत किया गया है ताकि मरीजों के सैंपलिंग की जांच की जा सकें। उन्होंने सभी उपायुक्तों को निर्देश देते हुए कहा कि इंडियन काऊसिंल फॉर रिसर्च इन पांच निजी परीक्षण प्रयोगशाओं को टेस्टिंग करने के लिए अधिकृत किया है और इन प्रयोगशालाओं के लिए प्रत्येक जिले में कलैक्शन सेंटर बनाए गए हैं जहां से सैपंलिंग को इन प्रयोगशालाओं में लाया जा सकता है। इसके अलावा, उन्होंने निर्देश देेते हुए कहा कि जिन प्रयोगशालाओं में टेस्टिंग की जा रही है वहां पर डाटा इत्यादि की निगरानी के लिए एक सुपरवाईजरी अधिकारी भी तैनात किया जाए ताकि सहीं आंकडे एकत्रित हो सकें।

मुख्य सचिव ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग में अधिकारियों को बताया कि राज्य सरकार ने अतिरिक्त थर्मल स्कैनर और पीपीई किट लेने के लिए आर्डर दे दिए हैं और वर्तमान में राज्य के अस्पतालों में पर्याप्त मात्रा में पीपीई किट हैं। इसके अलावा, लगभग डेढ लाख एन-95 मास्क भी उपलब्ध हैं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि स्मार्ट हैल्पलाईन भी उपयोग में लाई जाएं ताकि लोगों को दिक्कत न हों।

उन्होंने बताया कि पंचकूला के नागरिक अस्पताल,  मुलाना के अस्पताल और अग्रोहा के 550 बिस्तर के अस्पताल को भी कोविड-19 अस्पताल बनाए जाने पर राज्य सरकार विचार कर रही हैं।  इसी प्रकार, उन्होंने उपायुक्तों को निर्देश दिए कि राज्य में कंबाईन हारबेस्टर के संचालकों को भी सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखते हुए फसल कटाई में कोई दिक्कत न होने दी जाए।

श्रीमती केशनी आनंद अरोडा ने नूंह में कोविड-19 की रोकथाम के सभी उपाय क्रियान्वित करने के निर्देश भी दिए और कहा कि कोविड-19 के संदिग्ध लोगों को क्वारंटीन किया जाए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि हम सभी को टीम भावना से काम करते हुए स्रोतों का सही प्रयोग करना होगा। उन्होंने कहा कि फेरी वालों व दुकानदारों के पास वस्तुओं की दरों की सूची को लगवाना भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

बैठक में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री राजीव अरोडा ने बताया कि वर्तमान में गुरूग्राम में सबसे अधिक 700 व्यक्ति प्रति मीलियन की दर से टेंस्टिंग की जा रही है, जिसे आने वाले दिनों में 1000 व्यक्ति प्रति मिलियन की दर से बढाया जाएगा। इसी प्रकार, नूंह व पलवल 300 व्यक्ति प्रति मिलियन की दर से टेस्टिंग की जा रही है जिसे भी 500 व्यक्ति प्रति मिलियन के अनुपात से बढाया जाएगा। वहीं, फरीदाबाद और पानीपत में भी 1000 व्यक्ति प्रति मिलियन की के अनुपात से टेंस्टिंग की सुविधा की जाएगी। उन्होंने बताया कि वर्तमान में पीजीआईएमएस, रोहतक और भगतफूल सिंह, खानपुर कलां में कोविड-19 बीमारी की टेंस्टिंग की जा रही है और कल से गुरूग्राम की दो निजी परीक्षण प्रयोगशालाओं को भी चालू कर दिया गया हैं।

राजीव अरोडा ने बताया कि मोहाली की एक परीक्षण प्रयोगशाला के साथ भी राज्य सरकार की बातचीत चल रही है और इसके साथ जल्द ही समझौता ज्ञापन होगा ताकि राज्य के कोविड-19 के मरीजों की टेंस्टिंग ज्यादा से ज्यादा की जा सकें। इसके अलावा, कलेक्शन सेंटरों से सैंम्पलींग भी आ रही हैं। उन्होंने बताया कि यदि कोई व्यक्ति निजी तौर पर भी कोविड-19 का टेस्ट इन परीक्षण प्रयोगशालाओं में करवाता है तो उसकी जानकारी भी संबंधित सिविल सर्जन के पास होनी चाहिए और उसके आंकडे एकत्रित किए जाने चाहिए। उन्होंने बताया कि यदि कोई व्यक्ति आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत अपनी टेंस्टिंग करवाता है तो उसकी प्रतिपूर्ति की जाएगी। बैठक में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजेश खुल्लर ने भी जिलों के उपायुक्तों को आवश्यक दिशानिर्देश भी दिए।

बैठक में गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विजय वर्धन, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव धनपत सिंह, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास, मैडीकल शिक्षा एवं अनुसंधान विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आलोक निगम, वित विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव टीवीएसएन प्रसाद, कार्मिक विभाग के सचिव नितिन यादव, उच्चतर शिक्षा विभाग के महानिदेशक अजीत बालाजी जोशी, सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग के निदेशक पीसी मीणा, खाद्य एवं औषधि विभाग के आयुक्त अशोक कुमार मीणा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

हरियाणा के पर्यटन मंत्री कंवर पाल ने बताया कि कोरोना वायरस की महामारी से लडऩे में अग्रिम पंक्ति में कार्य कर रहे राज्य के डॉक्टरों व पैरा-मैडिकल स्टॉफ के लिए हरियाणा के पर्यटन केंद्रों में रहने व खाने का नि:शुल्क प्रबंध किया जाएगा। हरियाणा सरकार द्वारा जिला प्रशासन को अपन-अपने क्षेत्र के पर्यटन केंद्रों में यह अनुमति देने के लिए अधिकृत किया गया है।

पर्यटन मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कोविड-19 देश में महामारी घोषित की गई है। वर्तमान हालातों में डॉक्टर व पैरा-मैडिकल स्टॉफ अग्रिम पंक्ति में खड़ा होकर इस महामारी से लडऩे में अपना अहम योगदान दे रहे हैं। ऐसी स्थिति में अपने परिवार को रिस्क से बचाने के लिए डॉक्टर व पैरा-मैडिकल स्टॉफ अपनी ड्यूटी के बाद अगर अलग रहना चाहते हैं तो वे हरियाणा पर्यटन विभाग के पर्यटन केंद्रों में नि:शुल्क रह सकते हैं। उनको अनुमति देने के लिए जिला प्रशासन को अधिकृत किया गया है।

कंवर पाल ने बताया कि पर्यटन केंद्रों में डॉक्टर व पैरा-मैडिकल स्टॉफ के रहने, खाने के अलावा उनके कमरों की सफाई आदि का भी विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि सिविल सर्जन की ओर से इन पर्यटन केंद्रों में एक कर्मचारी की यह भी ड्यूटी लगाई जाएगी जो यह देखेंगे कि डॉक्टर व पैरा-मैडिकल स्टॉफ के रहने वाली जगहों पर स्वच्छता है या नहीं।

हरियाणा के फरीदाबाद में जन्मे बालीवुड कि जाने-माने गायक सोनू निगम ने हरियाणा के लोगों से कोरोना वायरस की महामारी से बचने के लिए घरों में ही रहने की अपील की है। उन्होंने डॉक्टरों व पुलिस के जवानों की मेहनत को देखते हुए उनको नमन किया है।

उन्होंने आज यहां जारी वीडियो संदेश में हरियाणा वासियों से कहा है कि उनका जन्म हरियाणा में हुआ है, यहां मेरे बचपन का बहुत हिस्सा वहां बीता है हरियाणा से उनकी यादें जुड़ी हुई हैं, हरियाणा में मेरी जान है, मेरा दिल है और इसीलिए मुझे आप की परवाह है। उन्होंने कहा कि आज पूरा विश्व कोरोना की महामारी के विरूद्घ एक बहुत बड़ी लड़ाई लड़ रहा है और हमारा देश भारत भी उसी लड़ाई का हिस्सा भी है। हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की टीम तथा हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल समेत सभी मिलकर कोरोना की महामारी के खिलाफ लडऩे में ऐड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं। सभी लोगों से इसमें पूरा साथ देने का निवेदन किया गया है। मुझे पता है पूरा भारत इसको समझ रहा है, फिर भी मैं सभी लोगों से अपील करता हूं कि आप लोग अपने घरों में रहें, अंदर ही रहें। यह एक बहुत बड़ी महामारी है, यह शुरूआती स्टेज में ही काबू में आ जाए तो बहुत बड़ी बात हो जाएगी, अगर एक बार हमारे हाथ से निकल जाएगी तो हमें बहुत बड़ा संकट झेलना पड़ सकता है।

सोनू निगम ने स्वास्थ्य विभाग से जुड़े कर्मचारियों, डॉक्टर, पुलिस तथा कोरोना से बचाव के अभियान में जुड़े सभी कर्मचारियों को शत-शत नमन करते हुए कहा कि आज मालूम पड़ा है कि आप लोग हमारे लिए कितने महत्वपूर्ण हैं, अपनी जान पर खेलकर हमारी सेवा कर रहे हैं, रक्षा कर रहे हैं, आप लोगों का बहुत-बहुत धन्यवाद।

Load More Related Articles
Load More By Yuva Haryana
Load More In Breaking

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

सोनाली फोगाट की गिरफ्तारी को लेकर बिनैण खाप ने प्रशासन को दिया 72 घंटे का अल्टीमेटम

Yuva Haryana, Jid     जींद के नर…