महिलाओं ने व्रत रख किया होली पूजन, किसानों ने नए अनाज का लगाया भोग

हरियाणा होली के रंग

होली पर जब तक रंग-बिरंगे कलर लगाकर दोस्तों के साथ जमकर डांस न किया जाए समझो रंगों के इस त्योहार की मस्ती अधूरी सी है। यह त्यौहार उत्तर भारत सहित अनेको राज्यों में भी धूम धाम से मनाया जाता है।

‘होली के दिन दिल मिल जाते है रंगो से रंग मिल जाते है ‘इसी  पंक्तियो के साथ भारत देश के अनेको राज्यों में होली का त्यौहार बड़ी ही धूम धाम से मनाया जाता है। वही हरियाणा के भिवानी और यमुनानगर की बात की जाए तो होली मनाने का एक अनोखा सा अंदाज देखने को मिला। होली के त्यौहार को लेकर लोगों में खासा उत्साह दिखाई दिया। महिलाएं सज-धजकर पूजा करने के लिए पहुंची। महिलाओं के साथ-साथ युवकों और पुरूषों ने भी होली पूजन किया।
महिलाओं ने व्रत रखकर होली पूजन किया और संतान की दीर्घायु की प्रार्थना की। वही किसानों ने खेतों में तैयार हुई नई फसल गेहूं, चने, जौ का भोग लगाया और अच्छी फसल की कामना की। महिलाओं ने गोबर से बने ढ़ाल, बिडक़ुल्ले और नाल से प्राचीन परम्पराओं के अनुसार पूजा की।

पूजा करने आई महिलाओं ने बताया कि होली पूजन को लेकर उनकी गहरी आस्था है। महिलाओं का कहना था कि जिस तरह भक्त प्रहलाद की रक्षा भगवान ने की उसी तरह वे अपने बच्चों की रक्षा की कामना के लिए होली का पूजन करती हैं तथा व्रत रखती है। यही नहीं होली की विधिवत पूजा के साथ-साथ नाल के धागे को रक्षा सूत्र के रूप में भी होलिका पर बांधा जाता है। उन्होंने कहा कि होली का मतलब सिर्फ और सिर्फ रंग हैं और होली का रंग इंसान के सिर्फ बाहरी आवरण को नहीं बल्कि मन को भी अंदर से रंग देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *