अब यूनिक आईडी प्लेट से मकान मालिक व दुकानदार ऑनलाइन देख सकेगा अपनी सम्पति का विस्तृत ब्यौरा

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Kurukshetra, 29 April, 2019

अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने कहा कि अब यूनिक आईडी प्लेट से कोई भी मकान मालिक और दुकानदार अपनी सम्पति का विस्तृत ब्यौरा ऑनलाइन देख सकेगा। इस व्यवस्था को बनाने के लिए कुरुक्षेत्र जिले के सभी मकानों, दुकानों की सम्पति का ब्यौरा आनलाईन किया जा रहा है।

इसके लिए ड्रोन के माध्यम से सर्वे का कार्य पूरा हो चुका है और यह सर्वे याशी कंसलटिंंग सर्विसेज प्राईवेट लिमिटेड द्वारा किया जा चुका है और अब ड्रोन की रिपोर्ट को प्रमाणित करने के लिए कम्पनी के कर्मचारी डोर-टू-डोर सर्वे का काम पूरा करेंगे। यह कार्य जून माह तक पूरा किया जाना है और इसके लिए जिले के सभी लोगों को सहयोग करना होगा और कर्मचारियों द्वारा मांगे गए दस्तावेजों को उपलब्ध करवाना होगा।

वे सोमवार को लघु सचिवालय के सभागार में नगर परिषद और जिला रोड सेफ्टी से सम्बन्धित अधिकारियों की दो अलग-अलग बैठकों को सम्बोधित कर रहे थे। इससे पहले याशी कम्पनी की अधिकारी मनजीत कौर ने पावर प्रेजेंटेशन के जरिए सर्वे की रिपोर्ट को सबके समक्ष रखा और जून माह तक किए जाने वाले सर्वे की विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की है।

इस फीडबैक के बाद एडीसी पार्थ गुप्ता ने कहा कि स्थानीय निकाय विभाग द्वारा अधिकृत की गई कम्पनी याशी के कर्मचारी मई और जून में वार्ड एवं कालोनी क्षेत्र में सभी घरों, दुकानों, भूखंडों व अन्य सम्पतियों का घर-घर जाकर सर्वे का काम करेंगे। इस सर्वे के द्वारा शहर के प्रत्येक व्यक्ति की सम्पति, घरों व दुकानों से मिलने वाली सूचनाओं को आनलाईन प्रणाली से अपडेट किया जाएगा। जिससे प्रोपर्टी टेक्स व विभिन्न योजनाओं को जानने व समझने के साथ अन्य सहुलियतों की जानकारी मिल पाएगी।

उन्होंने कहा कि सर्वे के बाद प्रोपर्टी का एक आईडी नम्बर दिया जाएगा, जो कि भविष्य में काफी उपयोगी साबित होगा। इतना ही नहीं अगर किसी ने सम्पति किराए पर दी हुई है तो वह किराएदार को फोन करके सर्वेयर की मदद करने के लिए कहे। सर्वे के दौरान सभी को अपनी सम्पति का एरिया, नाप, लेखा-जोखा सही करवानी होगी व एरिया सर्वेयर से सही रुप से चैक करके सर्वे दौरान फोटो खिंचवाया जाना है। सर्वे के बाद सम्बन्धित व्यक्ति द्वारा दिए गए मोबाईल नम्बर पर एक ओटीपी के साथ एक टैम्परेरी यूनिक सर्वे आईडी आएगा, जिसको सम्भाल कर रखना है, इस यूनिक आईडी से भविष्य में अपनी प्रोपर्टी की जानकारी मिल सकेगी।

उन्होंने यह भी कहा कि सर्वे एजेंसी के किसी भी सर्वेयर को कोई भी फीस या पैसा किसी भी रुप में नहीं देना है। इस मौके पर एसडीएम अश्विनी मलिक, एसडीएम निर्मल नागर, एसडीएम संयम गर्ग, एसडीएम अनिल यादव, डीआरओ डा. चांदी राम चौधरी, ईओ नगर परिषद बीएन भारती, सचिव नगर परिषद केएल बठला, याशी कम्पनी से मनजीत कौर सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

मकान व दुकान मालिक को क्या-क्या दस्तावेज देने होंगे अधिकृत सर्वेयर को-

अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने कहा कि सर्वे के कार्य के लिए याशी कंसलटिंग प्राईवेट लिमिटेड को अधिकृत किया गया है। इस कम्पनी के सर्वेयर घर-घर जाकर सम्पति का डाटा एकत्रित करेंगे और मकान मालिक तथा दुकानदार को बिजली के बिल की कापी, पानी के बिल की कापी, फोटो वाला एक आईडी प्रूफ, आधार नम्बर, सम्पति की रजिस्ट्री की कापी, किरायेदार के लिए मालिक के साथ हस्ताक्षर किए गए किरायेनामे की कापी, दुकान से सम्बन्धित लाईसैंस की कापी देनी होगी। इसके लिए सभी मकान मालिक और दुकानदार सर्वे कर रही कम्पनी के कर्मचारियों को सहयोग करेंगे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *