आजाद हिंद फौज के सिपाही ‘श्योराम’ पंच तत्वों में विलीन

Breaking देश बड़ी ख़बरें हरियाणा

Yuva Haryana,

Panchkula, (03-04-2018)

आजाद हिंद फौज के सिपाही श्योराम रविवार की रात सब कुछ छोड़ पंचतत्व में विलीन हो गए।

उनका दाहसंस्कार सोमवार को पैतृक गांव धोलेड़ा में किया गया।

इस दौरान हरियाणा पुलिस ने सशस्त्र सलामी देकर स्वतंत्रता सैनानी को अंतिम विदाई दी।

परिजनों ने बताया कि सवतंत्रता सैनानी श्योराम का रविवार की रात जी घबराने लगा।

परिजन उन्हें अस्पताल में लेकर जाते, इससे पहले ही उनकी सांसे बंद हो गई।

बता दें कि श्योराम का जन्म 10 अगस्त 1917 को हुआ था। 1939 में उनका संपर्क नेताजी सुभाषचंद्र बोस से हुआ।

उनके आजस्वी भाषण से प्रभावित होकर श्योराम आजाद हिंद फौज में भर्ती हो गए। 10 अगस्त 1940 में अंग्रेजों ने उन्हें नजरबंद कर लिया।

6 साल बाद 3 मार्च 1946 को घर लौटे। इसके थोड़े दिन बाद देश को स्वतंत्रता मिल गई। लेकिन श्योराम के दिल में देशसेवा का जज्बा कम नहीं हुआ।

3 नवंबर 1951 को उन्होंने सेना की डीएससी कोर में सेवाएं देनी शुरू कर दी। 25 साल नौकरी करने के बाद स्वतंत्रता सैनानी श्योराम अक्टूबर 1977 में सेवानवृत हो गए।

परिजनों ने बताया कि जम्मू कश्मीर में उत्पन्न हालातों को लेकर उनके हृदय में हमेशा टीस रही। उनका कहना था कि राजनीतिक पार्टियों के स्वार्थ के कारण ही देश आंतरिक और बाहरी दुश्मनों का सामना कर रहा है।

सेना पर बर्बता पूर्वक पत्थरबाजी होना चिंता का विषय है। जिस पर सरकार को तुरंत कड़ा संज्ञान लेना चाहिए। अन्यथा सेना का मनोबल टूट जाएगा। जिसका खामियाजा देश को ही भुगतना पड़ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *