दो दिनों की हड़ताल पर रहेंगे तीन लाख से ज्यादा कर्मचारी, 11 बजे तक सभी विभागों से मांगी रिपोर्ट

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा हरियाणा विशेष

Sahab Ram, Yuva Haryana
Chandigarh, 29 Oct, 2018

रोडवेज की हड़ताल के समर्थन में कल और परसों करीब तीन लाख कर्मचारियों ने हड़ताल का ऐलान किया है। इसी के चलते अब सभी विभागों के कर्मचारियों को दो दिनों तक बायोमैट्रिक हाजिरी लगाने और सभी विभागों की रिपोर्ट 11 बजे तक भेजने के आदेश जारी किये गए हैं। देखिये आदेश

 

 

जिलाधीश गिरीश अरोड़ा ने बताया कि पुलिस अधीक्षक कार्यालय ने सूचित किया है कि अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, गुप्तचर विभाग हरियाणा के पत्र से विदित हुआ है कि शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग, बिजली विभाग, पब्लिक हैल्थ, नगर निगम, आंगनवाडी वर्कर, मिड-डे-मिल वर्कर, आशा वर्कर, सक्षम युवा व अन्य विभागों के सर्व कर्मचारी संघ, सर्व कर्मचारी महासंघ व राष्टï्रीय टे्रड यूनियनों के सदस्यों द्वारा हरियाणा रोडवेज कर्मचारियों की हडताल के समर्थन में 30 व 31 अक्तूबर 2018 को दो दिवसीय राज्यव्यापी हडताल पर रहेंगे तथा सभी जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन करेंगे। इस हड़ताल के दौरान कुछ शरारती व असामाजिक तत्वों द्वारा सरकारी, गैर सरकारी सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने की संभवना से इंकार नहीं किया जा सकता। इसलिए जिलाधीश गिरीश अरोड़ा ने जिला यमुनानगर के अधिकार क्षेत्र में 30 व 31 अक्तूबर 2018 को कानून एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए जिला में दण्ड नियमावली 1973 की धारा 144 के अन्तर्गत निषेधाज्ञा के आदेश एक तरफा जारी किए हैं।

जिलाधीश गिरीश अरोड़ा द्वारा धारा 144 के तहत जारी निशेधाज्ञा के आदेशों में स्पष्टï किया गया है कि हड़ताल के दौरान कुछ शरारती व असामाजिक तत्वों व समाज विरोधी तत्वों द्वारा केन्द्र व राज्य सरकार तथा आम जनता की सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने की संभवना से इंकार नहीं किया जा सकता। इसलिए हड़ताल के दृष्टिïगत किसी भी व्यक्ति को कानूनी व अन्य रूप से मानवीय हानि व सम्पत्ति व जन शांति को भंग करने या किसी भी प्रकार का दंगा या डर फैलाने पर पाबंदी लगाई गई है।

जिलाधीश गिरीश अरोड़ा ने दंड प्रक्रिया नियमावली 1973 की धारा 144 के अधीन प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए आदेश जारी किए हैं कि किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए आगामी उपाय किए जाने तक व जन शांति बनाए रखने हेतू आम जनता या जनता का कोई भी प्रतिनिधि जिला यमुनानगर के अधिकार क्षेत्र में सार्वजनिक स्थानों पर न तो कोई जन सभा करेंगे और न ही चार या चार से अधिक व्यक्ति एक स्थान पर एकत्रित होंगे और जिला यमुनानगर के अधिकार क्षेत्र में किसी भी प्रकार के घातक हथियार जैसे आग्नेय शस्त्र-बंदूक, रिवालवर, पिस्टल, राईफल आदि, तलवार, (सिख समुदाय के प्रतीक कृपाण को छोड़कर), लाठी, बरछा, भाला एवं बल्लम, कुल्हाड़ी, जेली, गंडांसी, चाकू व अन्य किस्म के हथियार लेकर चलने पर पूर्ण रूप से 29 अक्तूबर 2018 को रात्रि 12.00 बजे से शांति बहाल होने तक के लिए पाबंदी लगाई गई है। यह आदेश पुलिस व अन्य सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों जोकि डयूटी पर तैनात होंगे, पर लागू नहीं होंगे। आपातकालीन स्थिति के मध्यनजर यह आदेश एक तरफा जारी किए गए हैं व आम जनता के सूचनार्थ एवं पालनार्थ सम्बोधित हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *