रोडवेज को रोजाना उठाना पड़ रहा है करीब सवा दो करोड़ का घाटा, अब सरकार उठाएगी ये कदम

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana 
19 Dec, 2019

हरियाणा रोडवेज में करीब 42 श्रेणियों में यात्रियों को मुफ्त या नाममात्र दरों पर सफर के चलते रोडवेज को रोजाना करीब सवा दो करोड़ रूपए का घाटा उठाना पड़ता है। जिसके चलते अब परिवहन विभाग ने कड़े कदम उठाने शुरू कर दिए है बता दें कि जिन केटेगरी के लोगों को मुफ्त व रियायती बस सेवा का फायदा मिल रहा है अब उनका बोझ संबंधित विभागों को खुद उठाना पड़ेगा इसके लिए एक चिट्ठी लिखी जाएगी। साथ ही समय पर पैसे जमा ना करवाने पर विभागों की शिकायत सीधे मुख्यमंत्री से की जाएगी।

हरियाणा रोडवेज के बेड़े में शामिल होंगी 367 बसें, परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने दी जानकारी

विभिन्न श्रेणियों में रियायती दरों पर लोगों को परिवहन सुविधाएं देने से रोडवेज को हर महीने औसतन 70 करोड़ तथा सालाना 840 करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान उठाना पड़ रहा है। रोडवेज की एक बस चलाने पर प्रति किलोमीटर 51 रुपये 81 पैसे का खर्च आता है, जबकि यात्रियों से 29 रुपये 82 पैसे की रिकवरी होती है। यानी प्रति किलोमीटर बस चलाने पर ही करीब 22 रुपये का नुकसान हो जाता है। इस तरह रोडवेज को रोजाना दो करोड़ 33 लाख रुपये का फटका लग जाता है।

अंबाला मेें हरियाणा रोडवेज के चार कर्मचारी सस्पेंड, 8 काम पर वापस लौटे
परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा ने कहा कि उन सभी विभागों से रिकवरी की जाएगी जो विभिन्न केटेगरी में लोगों को सस्ती व मुफ्त बस सेवा दे रहे हैं।

आपको बता दें कि परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा इस मुद्दे को मुख्यमंत्री मनोहर लाल के समक्ष भी उठा चुके हैं। मुख्यमंत्री को विश्वास में लेकर ही उन्होंने विभाग को घाटे से उबारने के लिए कुछ बोल्ड फैसले लेने का मन बनाया है। आला अधिकारियों को इस संदर्भ में विशेष हिदायतें दी गई हैं। हालांकि बसों का किराया अभी नहीं बढ़ाया जाएगा, लेकिन उन खर्चों को कम किया जाएगा, जिनकी वजह से विभाग पर बोझ बढ़ रहा है।

रोडवेज का घाटा कम करने और लोगों को बेहतर परिवहन सेवाएं देने के लिए मनोहर सरकार की पहली पारी में किलोमीटर योजना के तहत प्राइवेट बसों को हॉयर करने की नीति बनाई थी, लेकिन कर्मचारियों के विरोध के चलते सिरे नहीं चढ़ पाई। मौजूदा समय में रोडवेज बेड़े में शामिल 3636 बसों में से 3469 बसें ही चल रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *