खुद को जिंदा साबित करने के लिए दर-दर भटर रहा है दिव्यांग, नहीं मान रहा कोई उसे जिंदा

Breaking अनहोनी चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Shweta Kushwaha, Yuva Haryana

Fatehabad, 27 Dec, 2018

फतेहाबाद में एक दिव्यांग खुद को जिंदा साबित करने के लिए दर-दर भटक रहा है। वह हर उस दरवाजे को खट-खटा रहा है, जहां से उसे उम्मीद है कि कोई तो उसकी पुकार सुनेगा और उस पर विश्वास करेगा कि वह जिंदा है।

दरअसल, गांव बड़ोपल निवासी दिव्यांग ओमप्रकाश की पेंशन बंद हो चुकी है और जब वह समाज कल्याण कार्यालय पूछने के लिए गया, तो उसे पता चला कि वह मर चुका है। तभी से वह एक कार्यालय से दूसरे कार्यालय भटक रहा है, ताकि खुद को जिंदा साबित कर सके।

अंत में ओमप्रकाश सीएम विंडो पर अपनी शिकायत लेकर गया और कहा कि वह दिव्यांग है, पिछले कुछ महीनों से उसकी पेंशन नहीं मिल रही है। वह अपनी शिकायत लेकर समाज कल्याण विभाग भी गया, जहां दस्तावेजों में पता चला कि वह मर चुका है।

ओमप्रकाश ने आरोप लगाया है कि उसने विभाग को अपने जिंदा होने के बारे में भी बताया, लेकिन विभाग उसकी बात पर विश्वास नहीं कर रहा है और उसे जिंदा मानने से इंकार कर रहा है। इतना ही नहीं दिव्यांग ने ग्राम पंचायत से भी लिखवाकर दे दिया कि वह जिंदा है, तब भी विभाग उसकी बात नहीं मान रहा है।

दिव्यांग ओमप्रकाश ने परेशान होकर सीएम विंडो पर न्याय की गुहार लगाई है। अब देखना होगा कि इस दिव्यांग को भाजपा सरकार से न्याय मिलता है या फिर सरकारी कागजों में वह मुर्दा ही बनकर रह जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *