जम्मू-कश्मीर में शहीद हुए कैथल के बेटे राजेश पूनिया के परिवार को नहीं मिली अब तक सरकार की कोई मदद

Breaking चर्चा में देश बड़ी ख़बरें सरकार-प्रशासन हरियाणा के खिलाड़ी हरियाणा विशेष

Surender Wadhawan, Yuva Haryana

Guhla, 2 Nov, 2018

18 अगस्त को जम्मू-कश्मीर में शहीद हुए गांव भागल के राजेश पूनिया के परिवार को सरकार द्वारा अब तक कोई सरकारी राशि उपलब्ध न करवाने से पूरे उपमंडल में गहरा रोष है। हलका के लोगों ने आज लामबंद होकर ताऊ देवी लाल पार्क में मीटिंग कर इस बात पर गहरा दुख जताया। लोगों ने कहा कि दो महीने से भी ज्यादा वक्त बीत जाने के बाद भी सरकार की तरफ से कोई सहायता राशि उपलब्ध न करवाना सरकार की विश्वसनीयता पर सवाल खड़ा करता है।

शहीद के भाई रामपाल ने कहा कि अंतिम संस्कार के वक्त हरियाणा के कैबिनेट मंत्री कृष्ण पंवार ने परिवार को आश्वासन दिया था कि राजेश पूनिया को शहीद का दर्जा दे 50 लाख रुपए और परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी उपलब्ध करवाई जाएगी। लेकिन आज तक परिवार को फूटी कोड़ी भी उपलब्ध नहीं करवाई गई।

इस संबंध में उपायुक्त सहित सभी अधिकारियों को गुहार लगाई जा चुकी है, लेकिन अधिकारियों का कहना है कि उनके पास सहायता संबंधी कोई भी कागज अभी तक नहीं पहुंचा है। शहीद के भाई रामपाल ने कहा कि उनकी माता की तबीयत काफी खराब चल रही है, पैसों के अभाव में अच्छा इलाज करवाने में परिवार नाकाम है। ऐसे में अगर मेरी माता के साथ कुछ अनहोनी हो जाती है, तो बाद में हमारे पास व्यर्थ की सहानुभूति जताने की कोशिश की जाएगी।

उन्होंने इस संंबंध में अपने गांव में आज पंचायत बुलाई है, पंचायत के बाद जो भी आगामी रूप-रेखा शहीद के परिवार को सहायता उपलब्ध करवाने बारे में तैयार की जाएगी। उस बाबत मे सारे गणमान्य लोगों से निवेदन करता हूं कि दुख की इस घड़ी में परिवार का साथ दें। इस अवसर पर हरियाणा नंबरदार एसोसिएशन के प्रदेश प्रवक्ता अधिवक्ता जीवन ङ्क्षसह नैन, पोलखोल अभियान के संयोजक जगजीत सिंह, दलबीर सीड़ा, टहल ङ्क्षसह, नोदी चीका, जयप्रकाश बलबेहड़ा, सुरेंद्र बाल्मीकि, रामकुमार बाल्मीकि, मास्टर जिले सिंह, शहीद के भाई रामपाल, शमशेर सिंह, खजान ङ्क्षसह आदि भी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *