9.85 लाख पैकेज की नौकरी छोड़ शुरू किया मिल्क पार्लर, कई युवाओं को दिया रोजगार

Breaking चर्चा में बड़ी ख़बरें हरियाणा हरियाणा विशेष

Yuva Haryana

Hisar 9 Jan 2019

ऐसे न जाने कितने लोग हैं जो रोज-रोज ऑफिस जाकर ऊब चुके हैं और हर रोज अपना बिजनेस शुरू करने का सपना देखते हैं। लेकिन बहुत कम ही लोग होते हैं जो हकीकत में फैसला ले पाते हैं। वहीं ज्यदातर लोगों की जिंदगी तो सिर्फ सोचने में ही गुजर जाती है। इस कहानी में प्रेरणा कुछ अलग ही तरह की है,बेरोजगारों के लिए एक सीख है जो नौकरी के लिए दर दर भटक रहे है।अपनी रूचि के अनुसार कार्य करने पर आपको सफलता अवश्य मिलेगी। ऐसा ही कुछ कर दिखाया हेै हरियाणा के प्रदीप श्योरण ने।

चरखी दादरी के गांव मांडी पिरानू निवासी 33 वर्षीय प्रदीप श्योराण ने मल्टीनेशनल कंपनी में 9.85 लाख रुपये सालाना पैकेज की नौकरी छोड़ स्वरोजगार शुरू किया है। साथ ही उसने मामूली सी राशि खर्च कर एक दर्जन से अधिक परिवारों को घर बैठे रोजगार भी दिया है। गुरु जंबेश्वर विश्वविद्यालय हिसार में पढ़ाई करने के बाद कंपनी में बतौर मार्केटिंग मैनेजर के पद पर नौकरी की है।

गांव में बेरोजगार युवाओं को देखकर उसके मन में स्वरोजगार अपनाने का मन बनाया। इसके बाद नौकरी छोड़कर गाय के दूध का पार्लर शुरू किया। जिस मे वह दूध को उबालकर कुल्‍हड़ या चांदी के गिलास में पीने के लिए देता हैं।इसमे वह नौकरी से ज्यादा कमा रहा है । अब उनसे सीधे एक दर्जन से अधिक परिवार जुड़ गए हैं। धीरे-धीरे अन्य पशुपालकों को भी इससे जोडऩे की योजना है। इतना ही नहीं कुम्हारों को मिट्टी के कुल्हड़ बनाने का आर्डर देना भी शुरू कर दिया है।

प्रदीप श्योराण ने बताया कि उसने रोहतक में शुरुआत में दो जगह मिल्क पार्लर की स्टॉल लगाई। धीरे-धीरे डिमांड बढ़ी तो सुबह-शाम शहर के प्रमुख पार्कों के बाहर स्टाल लगाते हैं। करीब 200 ग्राम गाय का दूध चांदी के गिलास या मिट्टी के कुल्डड़ में दिया जाता है। साथ में आर्गेनिक गुड़ व खांड भी दी जाती है। जो शुगर के मरीजों के लिए स्वास्थ्यवर्धक है।

मिल्क पार्लर को दुग्ध रथ के नाम से पेटेंट कराने की योजना भी चल रही है। जिसे लेकर कागजी कार्यवाही शुरू कर दी है। फिलहाल दूध अदरक, इलायची और सौंफ के फ्लेवर में दिया जा रहा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *